• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • ADG Campaign Report First Positive, Negative In Re examination, Seeing Positive Report, ADG Had Asked Everyone To Be Careful

रांची के एक बड़े लैब की लापरवाही:एडीजी अभियान की रिपोर्ट पहले पॉजिटिव, दोबारा जांच में निगेटिव, पॉजिटिव रिपोर्ट देख सभी को सावधानी बरतने के लिए कह चुके थे एडीजी

रांची12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पहली जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई, एडीजी की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई। - Dainik Bhaskar
पहली जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई, एडीजी की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई।

रांची का एक बड़े लैब ने कोविड जांच रिपोर्ट देने में गड़बड़ी की है। लैब ने एडीजी अभियान संजय आनंदराव लाटकर की कोविड जांच रिपोर्ट में गड़बड़ी की और गलती पकड़े जाने के बाद कुछ ही घंटों में दोबारा जांच में रिपोर्ट बदल दिया। आरटीपीसीआर जांच के लिए दिए पहले सैंपल में लैब ने एडीजी को कोविड पॉजिटिव बताया। जब लैब की गलती पकड़ी गई और कुछ ही घंटों के बाद दोबारा जांच के लिए एडीजी ने सैंपल दिए तो लैब ने उन्हें निगेटिव बताया।

लैब की इस रिपोर्ट की जानकारी एडीजी अभियान ने अपने सोशल मीडिया के माध्यम से सभी को दी है। उन्होंने बताया है कि रांची की एक प्रतिष्ठित लैब ने कैसे पहले उन्हें कोविड की पॉजिटिव रिपोर्ट दी, फिर 20 घंटे के अंदर उसी लैब में उन्होंने दोबारा जांच कराई तो उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ गई। पहली रिपोर्ट आने के बाद एडीजी अभियान ने सभी आवश्यक सावधानियां बरतनी शुरू कर दी थी। उन्होंने अपने सहयोगी साथियों को सूचना दे दी थी कि जो भी उनके संपर्क में रहे हैं, वे सावधानी बरतें।

पहला सैंपल 4 जनवरी को दिया था जांच के लिए

सोशल मीडिया पोस्ट पर एडीजी अभियान ने बताया है कि चार जनवरी को उन्होंने अपनी आरटीपीसीआर जांच के लिए सुबह 9.58 में सैंपल दिया। जिसकी जांच रिपोर्ट दिन के 12.46 बजे उन्हें दी गई, जिसमें लैब ने उन्हें कोविड पॉजिटिव बताया। इसी बीच उन्होंने अपनी बहन को वह रिपोर्ट भेजी। उनकी बहन डॉक्टर हैं। बहन ने रिपोर्ट पर सवाल उठाया और बताया कि उस रिपोर्ट पर तो उम्र 36 साल बताया गया है, जो गलत है। इसके बाद एडीजी लाटकर ने फिर उक्त लैब के डॉक्टर से बात की और दोबारा जांच के लिए नमूना दिया, जो निगेटिव आई।

खबरें और भी हैं...