रांची में वकीलों ने सड़क पर निकाला मार्च:वकील की हत्या के विरोध में नहीं गए कोर्ट, सरकार से पूछा- कब तक बेमौत मरते रहेंगे वकील, एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की

रांची6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिवक्ता मनोज झा की हत्या के विरोध में वकीलों ने सड़क पर मार्च निकाला और नारेबाजी की। - Dainik Bhaskar
अधिवक्ता मनोज झा की हत्या के विरोध में वकीलों ने सड़क पर मार्च निकाला और नारेबाजी की।

सोमवार शाम अधिवक्ता मनोज झा की हत्या के विरोध में रांची के वकील मंगलवार को न्यायिक कार्यों से दूर रहे। सड़क पर मार्च निकाल कर अपनी नाराजगी जताई। सरकार से सवाल कर रहे हैं कि कब तक रांची में वकील ऐसे ही बेमौत मरते रहेंगे?

विरोध में झारखंड बार काउंसिल के बैनर तले वकीलों ने बार एसोसिएशन से अल्बर्ट एक्का चौक तक मार्च निकाला। इससे पहले एसोसिएशन के कार्यालय में सभी की एक बैठक हुई। इसमें झारखंड बार काउंसिल के प्रवक्ता संजय कुमार विद्रोही ने कहा कि राज्य में अधिवक्ता प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो ऐसे ही बेमौत अधिवक्ता मारे जाएंगे। उन्होंने कहा कि किसी के केस की पैरवी करना अधिवक्ताओं का पेशा है।

बार काउंसिल की एक बैठक मंगलवार को हुई। इसमें सभी ने सरकार से एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की।
बार काउंसिल की एक बैठक मंगलवार को हुई। इसमें सभी ने सरकार से एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की।

अधिवक्ताओं की सुरक्षा पर सरकार गंभीर नहीं

यहां वकीलों ने कहा कि सरकार अधिवक्ताओं की सुरक्षा को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रही है। अब राज्य के अधिवक्ता सुरक्षित नहीं है। केस की पैरवी करना अधिवक्ताओं का पेशा है। मनोज झा भी वही कर रहे हैं। जिस तरह सरेशाम उनकी हत्या की गई है, इससे वकीलों में डर का महौल है। एसोसिएशन के सभी सदस्य इस घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर SSP से भी मिले।

हाईकोर्ट के जज से जांच कराने की मांग

अधिवक्ता मनोज झा की हत्या को लेकर झारखंड हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखा है। एसोसिएशन ने अधिवक्ता के हत्या की निंदा करते हुए इस मामले की जांच की निगरानी हाईकोर्ट के जज से कराने की मांग है। पत्र में कहा है कि इस तरह की घटना से अधिवक्ता सदमे हैं। उनकी सुरक्षा सरकार की जिम्मेवारी है।

खबरें और भी हैं...