जगरनाथ महतो को मिला शिक्षा और उत्पाद विभाग का प्रभार:CM हेमंत सोरेन खुद मंत्री के आवास पर पहुंच कर सौंपा प्रभार, मंत्री ने कहा- कभी कर्ज नहीं उतार पाउंगा, पारा शिक्षकों के हित में लिया पहला फैसला

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रभार मिलने के बाद मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि वे कभी भी CM हेमंत सोरेन का कर्ज नहीं उतार पाएंगे। CM उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी रख रहे थे। जब वे पूरी तरह स्वस्थ हो गए तब उन्हें ये जिम्मेदारी दी गई। - Dainik Bhaskar
प्रभार मिलने के बाद मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि वे कभी भी CM हेमंत सोरेन का कर्ज नहीं उतार पाएंगे। CM उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी रख रहे थे। जब वे पूरी तरह स्वस्थ हो गए तब उन्हें ये जिम्मेदारी दी गई।

कोरोना संक्रमण और लंग्स ट्रांसप्लांटेशन से पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद झारखंड सरकार में मंत्री जगरनाथ महतो को शिक्षा और उत्पाद विभाग का प्रभार सौंप दिया गया है। बुधवार को CM हेमंत सोरेन ने खुद मंत्री के आवास पर पहुंच कर उन्हें प्रभार सौंपा। इस दौरान मंत्री भावुक हो गए। प्रभार मिलने के बाद मंत्री ने कहा कि वह कभी भी CM हेमंत सोरेन का कर्ज नहीं उतार पाएंगे। CM उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी रख रहे थे। जब पूरी तरह स्वस्थ हो गए तब उन्हें ये जिम्मेदारी दी गई।

शिक्षा मंत्री 28 सितंबर को कोरोना से संक्रमित हो गए थे। इसमें उनका लंग्स पूरी तरह डैमेज हो गया था। 10 नवंबर को उनका लंग्स ट्रांसप्लांट किया गया था। 14 जून को पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद वह चेन्नई से झारखंड लौटे थे।

पारा शिक्षकों के हित में पहला फैसला

चार्ज वापस मिलते ही शिक्षा मंत्री एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक शुरू कर दी है। पहला फैसला वह पारा शिक्षकों के हित में ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे पारा शिक्षकों के कल्याण कोष के गठन में आने वाले रोड़ों को दूर करेंगे। इसके लिए उन्होंने शिक्षा सचिव को इस मामले की फाइल लेकर अपने आवास पर तलब की है।

28 सितंबर 2020 को कोरोना संक्रमित पाए गए थे

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो 28 सितंबर 2020 को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। कोरोना के बाद फेफड़े में संक्रमण हो गया था। इसके बाद उन्हें रिम्स में एडमिट किया गया था। स्वास्थ्य में सुधार नहीं होता देख शिक्षा मंत्री को रांची के मेडिका अस्पताल में भर्ती किया गया था। लेकिन फेफड़ों में संक्रमण फैल जाने के कारण उन्हें एयर लिफ्ट कर चेन्नई के एमजीएम अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां 10 नवंबर को उनका लंग्स ट्रांसप्लांट किया गया।

शिक्षा मंत्री के बीमार होने से वापस प्रभार मिलने तक की टाइमलाइन

  • 28 सितंबर 2020 को कोरोना पॉजिटिव हुए थे जगरनाथ महतो
  • 30 सितंबर को बेहतर इलाज के लिए रिम्स से मेडिका शिफ्ट कराया गया
  • 19 अक्टूबर को उन्हें एयर एंबुलेंस के जरिये रांची से चेन्नई ले जाया गया
  • 10 नवंबर को उनका लंग्स ट्रांसप्लांट किया गया
  • 9 फरवरी को रिकवर होने के बाद मिली थी उन्हें हॉस्पिटल से छुट्टी
  • तबीयत गड़बड़ होने पर दोबारा किया गया था ह़ॉस्पिटल में एडमिट
  • 14 जून को पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद चेन्नई से रांची लाया गया
  • 28 जुलाई को मंत्री को वापस शिक्षा और उत्पाद विभाग का प्रभार मिला
खबरें और भी हैं...