पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Appointment Of Temporary Teachers Started In Kasturba Schools, More Than 1500 Teachers Who Have Been Teaching For Years With New Conditions Will Be Unemployed

न्याय दिलाने की गुहार:कस्तूरबा विद्यालयों में अस्थाई शिक्षकों की नियुक्ति शुरू, नई शर्तों से वर्षों से पढ़ा रहे 1500 से अधिक शिक्षक हाे जाएंगे बेराेजगार

रांची7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कृषि मंत्री को ज्ञापन देते कस्तूरबा के शिक्षक। - Dainik Bhaskar
कृषि मंत्री को ज्ञापन देते कस्तूरबा के शिक्षक।
  • कस्तूरबा के शिक्षकों ने कृषि मंत्री से लगाई न्याय की गुहार, दी आत्महत्या करने की चेतावनी
  • अर्हता वाले अभ्यर्थी भी जेटेट का सर्टिफिकेट नहीं होने से हो जाएंगे वंचित, क्योंकि 5 साल से नहीं हुई है जेटेट की परीक्षा

कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के शिक्षकों ने मंगलवार काे कृषि मंत्री बादल पत्रलेख से मिलकर न्याय दिलाने की गुहार लगाई। शिक्षकों के प्रतिनिधिमंडल ने मंत्री काे सौंपे ज्ञापन में कहा है कि सरकार द्वारा कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में पूर्णकालिक शिक्षिका, रसोईया और चतुर्थवर्गीय पदाें काे भरने के लिए आवेदन मांगा गया है। इसमें दी गई शर्तों की वजह से वर्षों से कस्तूरबा विद्यालय में पढ़ा रहे 1500 से अधिक शिक्षक बेरोजगार हाे जाएंगे।

नियुक्ति के लिए 38 वर्ष होना जरूरी, अधिकतर शिक्षक 40 पार

कस्तूरबा विद्यालय में शिक्षकों के सभी पदाें के लिए नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की गई है। इसके लिए उम्मीदवारों के लिए अधिकतम उम्र सीमा 38 वर्ष निर्धारित किया गया है। जबकि, वर्षों से कस्तूरबा विद्यालयों में पढ़ा रहे शिक्षकों की उम्र 40 से 45 वर्ष हाे गई है। ऐसे में वर्तमान में पढ़ा रहे अधिकतर शिक्षक नई नियुक्ति प्रक्रिया से वंचित हाेकर बेरोजगार हाे जाएंगे। इसके अलावा काफी संख्या ऐसे शिक्षक हैं, जाे अर्हता पूरा करते हैं, लेकिन पिछले पांच वर्षों से जेटेट की परीक्षा आयोजित नहीं हाेने के कारण वे भी बहाली से वंचित हाे जाएंगे।

जेटेट की अनिवार्यता में छूट दी जाए

प्रतिनिधिमंडल ने आग्रह किया है कि अंशकालिक शिक्षकों व कर्मियों काे 50% आरक्षण देने के साथ ही जेटेट की अनिवार्यता में भी छूट दिलाएं। शिक्षिकाओं ने कहा कि सरकार अंशकालिक शिक्षकों की मांगाें काे पूरा नहीं करेगी ताे वे आत्महत्या करने काे विवश हाे जाएंगे, क्याेंकि न्यूनतम मानदेय में वे लाेग वर्षों से अपनी सेवा दे रहे हैं। माैके पर मेनका मेहता, रितेश सिंह,माे. मुजफ्फर हुसैन आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...