सड़क से सोशल मीडिया पर पहुंचा JPSC का आंदोलन:JPSC की PT परीक्षा की CBI से जांच कराने के लिए अभ्यर्थियों ने शुरू किया मुहिम

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अभ्यर्थी सोशल मीडिया पर अलग-अलग पोस्टर्स के माध्यम से भी अबनी बात रख रहे हैं। - Dainik Bhaskar
अभ्यर्थी सोशल मीडिया पर अलग-अलग पोस्टर्स के माध्यम से भी अबनी बात रख रहे हैं।

झारखंड लोक सेवा आयोग (JPSC) की 7वीं-10वीं PT परीक्षा का आंदोलन सड़क से अब सोशल मीडिया पर पहुंच गया है। अभ्यर्थी मंगलवार सुबह से यहां अलग-अलग हैशटैग से अपना विरोध जता रहे हैं। इसमें मुख्य रूप से #CBI4JPSC शामिल है। इसके अलावा #jpsc_cbi_enquiry, #jpsc_cbi_enquiry, #currpted इस पर भी अभ्यर्थी अपनी बात रख रहे हैं।

बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पर युवा इस हैशटैग के साथ अपनी बातें रख रहे हैं। खबर लिखे जाने तक राज्य भर से 10 हजार से ज्यादा युवा इस मुद्दे पर अपनी बात रख चुके थे। झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन के इस अभियान को BJP के नेताओं का भी समर्थन मिल रहा है। पार्टी के नेता भी सोशल मीडिया पर अपनी बात रख रहे हैं।

झारखंड के पूर्व CM और ‌‌BJP विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि झारखंड में JPSC के काले कारनामे जिस हिसाब से लगातार सामने आ रहे हैं उसे देखकर साफ प्रतीत होता है कि दाल में जरूर कुछ काला है। उन्होंने कहा कि BJP JPSC में हुई गड़बड़ियों की CBI जांच की मांग करती है ताकि छात्रों को न्याय मिल सके।

अभ्यर्थियों का आरोप- यह सबसे बड़ा घोटाला

निकिता नाम की अभ्यर्थी सोशल मीडिया पर लिखती हैं कि JPSC-2021 राज्य में अभी तक का सबसे बड़ा घोटाला है। वे आगे लिखती हैं कि सरकार अभ्यर्थियों के भविष्य के साथ खलेना बंद करे।

भ्रष्टाचार रूपी राक्षस से JPSC को बचाना है

संजय मेहता नाम के यूजर्स लिखते हैं सरकार युवाओं को नौकरी दे। नहीं तो युवा फिर से माओवादी बनने की ओर आगे बढ़ेंगे। दीपक लिखता हे कि सभी बीमारी का एक इलाज #CBI4JPSC । अगर आने वाली भावी पीढ़ी को भ्रष्टाचार रूपी राक्षस से बचाना है तो JPSC में CBi जांच करवानी है।