पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मासूमों का रखें खास ख्याल:कोरोना संक्रमित हो रहे बच्चे, निमोनिया और बुखार के हैं लक्षण

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड की दूसरी लहर 12 साल से कम उम्र के बच्चों को भी बना रहा निशाना

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में अब बच्चे भी गंभीर लक्षणों के साथ संक्रमित हो रहे हैं। यह अभिभावकों के लिए चिंता बढ़ाने वाली बात है। डॉक्टरों के अनुसार, इस लहर में 12 साल से कम उम्र के बच्चों के साथ नवजात शिशुओं में भी संक्रमण मिला है। इन बच्चों में तेज बुखार और निमोनिया जैसे गंभीर लक्षण देखे जा रहे हैं, जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ रही है। रानी अस्पताल के विशेषज्ञ डॉ. राजेश ने बताया कि इस बार बच्चों में भी कोविड देखने को मिल रहा है।

अभी तक 40 से 45 बच्चे अस्पताल में भर्ती हुए हैं। हर दिन में एक या दो बच्चे आ रहे हैं। अभी 3 नवजात शिशु भी कोविड वार्ड में भर्ती हैं। पिछले साल कोरोना की पहली लहर के दौरान हर उम्र के लोग संक्रमण की चपेट में आए, लेकिन बच्चों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा था। डॉ. राजेश ने बताया कि अभी कोविड वार्ड में तीन नवजात पॉजिटिव हैं। इनमें से 2 बच्चे का जन्म के बाद ही कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया। इन शिशुओं की मां गर्भावस्था में कोरोना पॉजिटिव थी। एक नवजात बच्चे को किसी परिवार के सदस्य से मिलने के दौरान संक्रमण हुआ।

डॉक्टर बोले.... सावधानी बरतें, गर्भवती के संक्रमित होने से बच्चा भी हो रहा पॉजिटिव

जानिए... 2 केस से स्थिति

केस-1 - बोकारो की सुनीता ने बताया कि घर में कुछ लोगों को कोरोना हुआ था। इसके बाद पोती को तेज बुखार हुआ। डॉक्टर ने कोरोना जांच करवाने की सलाह दी। रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद बच्ची को यहां एडमिट कराया है।

केस-2 - मौसमी अपने डेढ़ माह के बच्चे का इलाज करा रही है। कहा कि बच्चे को कोरोना कैसे हुआ पता नहीं है। अचानक ही तेज बुखार और लूज मोशन की समस्या हुई। हमने कोविड-19 की जांच कराई। रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकला।

कोरोना संक्रमण से तीन बच्चों की हो चुकी है मौत

डॉ. राजेश ने बताया कि संक्रमण से तीन बच्चों की मौत हो चुकी है। हालांकि, कोरोना वायरस से रिकवर होने वालों बच्चों की संख्या अधिक है। बच्चों में रोग-प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है, जिसकी वजह से उन्हें वायरस ज्यादा प्रभावित नहीं कर पाता है। इसलिए, बच्चों की इम्युनिटी बना रहे, इसकी जिम्मेदारी अभिभावकों की है।

खबरें और भी हैं...