मध्याह्न भोजन:बच्चों को मिलेगी सितंबर 2020 से बंद एमडीएम की कुकिंग कॉस्ट की राशि

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • स्कूली शिक्षा विभाग ने जारी किए 252 करोड़ 70 लाख रु.
  • 666 रुपए पहली से पांचवीं के बच्चों को मिलेंगे
  • 134 दिन की राशि अभी बच्चों को दी जाएगी

सितंबर 2020 से बंद एमडीएम की कुकिंग कॉस्ट की राशि बच्चों को दी जाएगी। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने वर्तमान में 134 दिनों की कुकिंग कॉस्ट की राशि जारी करते हुए इसे स्कूली बच्चों को देने का निर्देश दिया है। इसके लिए विभाग ने 252 करोड़ 70 लाख रुपए जारी किए हैं।

निगरानी के लिए शिक्षा अधिकारियों की आठ सदस्यीय टीम गठित हुई है। इस क्रम में पहली से पांचवीं के बच्चों को 4.95 रुपए की दर से 666 रुपए और छठी से आठवीं के बच्चों को 7.45 रुपए की दर से 998 रुपए दिए जाएंगे। निगरानी की टीम में क्षेत्रीय शिक्षा संयुक्त निदेशक, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, क्षेत्र शिक्षा पदाधिकारी, प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रखंड साधन सेवी और संकुल साधन सेवी को शामिल किया गया है। मध्याह्न भोजन प्राधिकरण की ओर से भी रोज फोन कर इस काम की समीक्षा की जाएगी। शिक्षा अधिकारी कुकिंग कॉस्ट की राशि के वितरण की मॉनीटरिंग करेंगे।

निगरानी के लिए बनी आठ अधिकारियों की टीम

शिक्षा सचिव राजेश कुमार शर्मा ने निर्देश दिया है कि निगरानी कमेटी के सभी अधिकारी जिलों को दी गई राशि का वितरण निर्धारित समय सीमा के अंदर कराएं। ये पदाधिकारी ही राशि वितरण के लिए जवाबदेह होंगे। जिला शिक्षा अधीक्षक इसकी हर दिन स्कूलों से रिपोर्ट मंगाएंगे। सभी बच्चों को पैसे मिल सके, इसकी व्यवस्था ये सुनिश्चित करेंगे। जिन बच्चों का बैंक खाता नहीं है, उनके पैसे उनके अभिभावकों के खाते में डाले जाएंगे या फिर अभिभावकों के सामने बच्चों को रुपए दिए जाएंगे।

कुकिंग कॉस्ट के बदले डब्बा बंद भोजन देने का बना था प्रस्ताव

बच्चों के बीच मध्याह्न भोजन के चावल लगातार दिए जा रहे हैं। परंतु, कुकिंग कॉस्ट की राशि बंद कर दी गई थी। इस बीच शिक्षा विभाग ने प्रस्ताव बनाया था कि कुकिंग कॉस्ट के बदले बच्चों को डब्बा बंद भोजन दिया जाएगा। इसका टेंडर भी हो गया था। हालांकि ऐन समय पर उसे रद्द करना पड़ा। अब विभाग ने तय किया है कि कुकिंग कॉस्ट के सारे पैसे बच्चों के खाते में भेजे जाएंगे।

क्षेत्रीय शिक्षा संयुक्त निदेशक 2% स्कूलों की करेंगे मॉनिटरिंग

प्राधिकरण की निदेशक किरण कुमारी पासी ने निर्देश दिया है कि क्षेत्रीय शिक्षा संयुक्त निदेशक प्रमंडल के 2% स्कूलों की मॉनिटरिंग करेंगे। डीईओ अपने क्षेत्र के 5%, डीएसई 10%, क्षेत्र शिक्षा पदाधिकारी 15% और बीईईओ 20% स्कूलों की मॉनीटरिंग करेंगे।

खबरें और भी हैं...