खतरनाक लापरवाही:झारखंड में कोरोना की दूसरी लहर के मुकाबले रोज होने वाले टेस्ट 42% कम, देश में आधे

रांची25 दिन पहलेलेखक: पवन कुमार
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमितों की ट्रैकिंग लगभग बंद, इससे नए संकट का डर

देश में 29 अक्टूबर के बाद रोज कोरोना के नए केस 13 हजार का आंकड़ा नहीं छू पाए हंै। इससे लगता है कि देश से कोरोना खत्म होता जा रहा है, मगर इस खुशफहमी में की गई लापरवाही भारी पड़ सकती है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अप्रैल-मई में हम रोज जितने टेस्ट कर रहे थे, अभी उसके आधे ही टेस्ट हो रहे हैं। अप्रैल में रोज औसतन 18 लाख तो मई में 19.5 लाख टेस्ट हो रहे थे।

जबकि 31 अक्टूबर से 5 नवंबर के बीच किसी भी दिन टेस्ट 11 लाख तक नहीं पहुंचे। वहीं झारखंड में मई में रोज औसतन 50 हजार टेस्ट हो रहे थे, जो नवंबर में 29 हजार पर सिमट गया। चिंताजनक यह है कि जिस आरटीपीसीआर को दुनिया में टेस्टिंग का गोल्ड स्टैंडर्ड माना गया है, उसकी हिस्सेदारी देश में घट रही है। 29 अक्टूबर से 4 नवंबर तक कुल जांच में आरटीपीसीआर की हिस्सेदारी 8% घटकर 62% ही रह गई है।

आईसीएमआर के प्रोटोकॉल के मुताबिक आरटीपीसीआर और रैपिड एंटीजन टेस्ट दोनों में से किसी में भी पॉजिटिव आने वाले मरीज को रिकॉर्ड पर लिया जाना जरूरी है। मगर चौंकाने वाला तथ्य ये है कि टेस्ट पॉजिटिविटी रेट वहीं ज्यादा है, जहां आरटीपीसीआर टेस्ट ज्यादा हो रहे हैं। इसको ऐसे समझिए

यहां आरटीपीसीआर कम

  • 691 जिलों में संक्रमण दर 5% से कम है। इनमें 298 जिले ऐसे हैं जहां एंटीजन टेस्ट का अनुपात 50% है।
  • 79 जिलों में एंटीजन का अनुपात 40% या इससे ज्यादा है। यानी 54.5% जिले मुख्यत: रैपिड एंटीजन टेस्ट पर ही निर्भर हैं।

यहां आरटीपीसीआर ज्यादा

  • 18 जिलों में संक्रमण 10% से ज्यादा है। इनमें 11 जिले ऐसे हैं जहां आरटीपीसीआर का अनुपात 50% है।
  • बचे 7 जिलों में से किसी में भी आरटीपीसीआर का अनुपात 40% भी नहीं है। यानी 61.1% जिले मुख्यत: आरटीपीसीआर पर ही निर्भर हैं।

3 राज्यों के उदाहरण से समझिए...आरटीपीसीआर टेस्टिंग का असर

केरल: एकमात्र राज्य जहां किसी भी जिले में आरटीपीसीआर का अनुपात 65% से कम नहीं है। 9 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10% के ऊपर और 5 जिलों में 5% से ज्यादा है।

असम: कार्बी आंगलॉन्ग को छोड़ सभी जिलों में एंटीजन टेस्ट का अनुपात 55% है। असम के 1 जिले में संक्रमण दर 10% से ज्यादा व 1 जिले में 5% से ज्यादा है। बाकी 31 में 5% से कम है।

बिहार: 38 जिलों में से एक में भी संक्रमण दर 5% से ज्यादा नहीं है। यहां सिर्फ 10 जिलों में ही आरटीपीसीआर का अनुपात 50% या इससे ज्यादा है। बाकी 28 में एंटीजन टेस्ट ही ज्यादा हो रहे हैं।

पिछले 6 दिन में 3 दिन टेस्ट 10 लाख से कम

तारीख कुल टेस्ट नए मरीज पॉजिटिविटी रेट 5 नवंबर 8.1 लाख 10,929 1.35% 4 नवंबर 6.7 लाख 12,729 1.25% 3 नवंबर 10.6 लाख 12,885 1.21% 2 नवंबर 10.6 लाख 11,903 1.11% 1 नवंबर 10.09 लाख 10,423 1.03% 31 अक्टूबर 8.8 लाख 12,514 1.17%

कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बंद
प्रोटोकॉल है- पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों का एंटीजन टेस्ट करें। लक्षण हों और रिपोर्ट निगेटिव आए तो आरटीपीसीआर करें। लेकिन, अभी भी ज्यादातर राज्यों में खुद सेंटर आने वालों के ही टेस्ट हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...