• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Congress's Pressure Came In Handy, The Party Will Have 20 point District President In 10 Districts Including Ranchi, 13 Districts To JMM

सूत्री कमेटियों व निगरानी समितियों के गठन का रास्ता साफ:कांग्रेस का दबाव काम आया, रांची समेत 10 जिलों में पार्टी के होंगे 20 सूत्री जिला अध्यक्ष, झामुमो को 13 जिले

रांची9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • झामुमो, कांग्रेस और राजद के बीच तय हुआ फॉर्मूला, रांची और धनबाद पर जिच, पार्टियों के आलाकमान निकालेंगे समाधान
  • राजद को एक जिला चतरा; बोर्ड-निगमों पर अभी कोई निर्णय नहीं

कांग्रेस के दबाव में जिला 20 सूत्री कमेटियों व निगरानी समितियों के गठन का रास्ता साफ हो गया है। झामुमो द्वारा तय फॉर्मूले के अनुसार, 16 विधायकों वाली कांग्रेस को झारखंड के 24 जिलों में से 10 जिलों का जिम्मा मिला है। वहीं 30 विधायकों वाले झामुमो ने अपने पास 13 जिले ही रखे हैं। सबसे अधिक फायदे में राजद रहा है। एक विधायक होने पर भी उसे एक जिला मिला है।

20 सूत्री और निगरानी समितियों के गठन को लेकर मंत्री चंपई सोरेन के आवास पर बुधवार को हुई झामुमो विधायकों की बैठक में यह फॉर्मूला तय किया गया। वहीं बोर्ड-निगमों के गठन का मामला अभी ठंडे बस्ते में ही है। निकट भविष्य में भी इसके गठन की संभावना नहीं है। 20 सूत्री और निगरानी समितियों के गठन को लेकर मंत्री चंपई सोरेन के आवास पर हुई झामुमो विधायकों की बैठक में भी इस पर कोई अनौपचारिक चर्चा तक नहीं हुई।

बैठक के बाद आधिकारिक रूप से चंपई सोरेन ने सिर्फ इतना भर कहा कि झामुमो ने फार्मूला तय कर लिया है। समितियों के गठन में पार्टी समर्पित कार्यकर्ताओं को प्राथमिकता देगी। फार्मूले को अंतिम स्वीकृति के लिए पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के पास रखा जाएगा। सरकार में शामिल कांग्रेस और राजद के साथ भी तय फार्मूले पर अंतिम चर्चा होगी।

किस पार्टी को कौन जिले
झामुमो
: प.सिंहभूम, पूर्वी सिंहभूम, सरायकेला-खरसांवा, गुमला, लातेहार, दुमका, पाकुड़, जामताड़ा, साहेबगंज, खूंटी, धनबाद, गढ़वा और गिरिडीह
कांग्रेस : रांची, पलामू, रामगढ़, हजारीबाग, कोडरमा, गोड्डा, देवघर, सिमडेगा, बोकारो और लोहरदगा
राजद : चतरा

बंटवारे का फॉर्मूला

  • सामान्यत: जिस जिले में जिस पार्टी के अधिक विधायक, वहां 20 सूत्री जिला अध्यक्ष उसी पार्टी का। उपाध्यक्ष सहयोगी पार्टी का।
  • जहां के वरिष्ठ नेता, वह जिला उसी पार्टी को। जैसे- लोहरदगा कांग्रेस के रामेश्वर उरांव के कारण, चतरा राजद के सत्यानंद भोक्ता की वजह से।

रांची किसे, सीएम कांग्रेस नेताओं से बात कर सुलझाएंगे
रांची और धनबाद पर अभी भी झामुमो और कांग्रेस के बीच विवाद है। बुधवार को झामुमो विधायकों की बैठक में तय किया गया कि मुख्यमंत्री ही अपने स्तर से कांग्रेस नेताओं को बात करके मसले को सुलझायेंगे। धनबाद और रांची से झामुमो और कांग्रेस ने तीन-तीन सीटों पर चुनाव लड़ा। लेकिन दोनों ही जिलों में दोनों ही दलों को एक-एक सीट पर ही जीत हासिल हुई। इसलिए दोनों अपना दावा कर रहे हैं।

झामुमो ने जिला कमेटियों से मांगी सूची
झामुमो विधायकों की बैठक में तय किया गया कि जिला कमेटियों से पार्टी समर्पित कार्यकर्ताओं की सूची मांगेगी। उसमें आरक्षण के तय प्रावधान के तहत जिला कमेटियां कार्यकर्ताओं के नाम भेजेगी। जो एसटी, एससी, ओबीसी, महिला आरक्षण के अनुरूप होगी।

खबरें और भी हैं...