पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अजब झारखंड की गजब पुलिस:जिन्हें सरकार गिराने की साजिश के आरोप में गिरफ्तार किया, उनमें एक सब्जी बेचने वाला और दूसरा मजदूर निकला

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झारखंड में सरकार गिराने के मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। दरअसल, रांची पुलिस ने सरकार गिराने की साजिश के आरोप में जिन लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें से एक सब्जी बेचने वाला और दूसरा दिहाड़ी मजदूर निकला। यह दावा खुद गिरफ्तार आरोपियों के परिजनों ने किया है।

परिजनों का कहना है कि पुलिस ने इन्हें दो दिन पहले बोकारो में उनके घर से उठाया था। निवारण प्रसाद महतो बोकारो में सब्जी और फल की रेहड़ी लगाते हैं, जबकि अमित सिंह दिहाड़ी मजदूरी करते हैं।

निवारण के जीजा सोनू कुमार ने बताया कि पुलिस ने दोनों को दो दिन पहले यह कहकर उठाया था कि एक मामले में पूछताछ करनी है। एक-डेढ़ घंटे बाद छोड़ दिया जाएगा। इधर, पुलिस ने इन्हें रांची के एक बड़े होटल से गिरफ्तार करने का दावा किया है।

रोज कमाने-खाने वाले सरकार गिराने की साजिश कैसे कर सकते हैं?
परिजन ने बताया कि जब वे रांची आए तो उन्हें पता चला कि दोनों को सरकार गिराने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। परिजन का कहना है कि रोज कमाने-खाने वाले दोनों लोगों का राजनीति से दूर-दूर तक लेना-देना नहीं है। फिर ये सरकार गिराने की साजिश कैसे रच सकते हैं? उन्होंने कोतवाली थाने में अपनी बात रखनी चाही, लेकिन पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी।

परिजनों की तरफ से होटल से गिरफ्तार निवारण महतो की ये तस्वीर जारी की गई है। जिनमें वे सब्जी बेचते नजर आ रहे हैं। (फाइल फोटो)
परिजनों की तरफ से होटल से गिरफ्तार निवारण महतो की ये तस्वीर जारी की गई है। जिनमें वे सब्जी बेचते नजर आ रहे हैं। (फाइल फोटो)

स्पेशल सेल का दावा- रांची के होटल से 3 आरोपी गिरफ्तार किए, 2 लाख कैश बरामद
इससे पहले स्पेशल सेल ने रांची के बड़े होटलों में गुरुवार से शुक्रवार देर रात तक ताबड़तोड़ छापा मारा है। यहां से 3 लोगों को 2 लाख कैश के साथ गिरफ्तार किया है। पूरी कार्रवाई कांग्रेस के बेरमो विधायक कुमार जयमंगल सिंह की शिकायत पर हुई है। जयमंगल ने 22 जुलाई को कोतवाली थाने में एक पत्र लिखकर विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका जताई थी।

स्पेशल ब्रांच का दावा है कि ये लोग झारखंड में सरकार गिराने की साजिश के तहत विधायकों की खरीद-फरोख्त के लिए बड़ी रकम लेकर होटल में ठहरे हुए थे। शनिवार को तीनों आरोपियों के खिलाफ कोतवाली थाना में राजद्रोह के तहत मामला दर्ज किया गया है।

कोतवाली थाने में अभिषेक दुबे, अमित सिंह और निवारण प्रसाद महतो के खिलाफ FIR दर्ज हुई है। इन पर IPC की धारा 419, 420 124-A, 120 B, 34 और PR एक्ट की धारा 171 के साथ PC एक्ट की धारा 8/9 लगाई गई है।

दो दिन गुपचुप कार्रवाई हुई, शुक्रवार देर रात तक पड़े छापे
सूत्रों के अनुसार, स्पेशल ब्रांच को सूचना मिली थी कि राज्य में कुछ लोग सरकार के खिलाफ साजिश रच रहे हैं। इस पर पुलिस की टीम ने गोपनीय तरीके से रांची के बड़े होटलों में गुरुवार और शुक्रवार को लगातार 2 दिन छापेमारी की। पुलिस ने लोअर बाजार थाना के इलाके के एक बड़े होटल से 3 लोगों को हिरासत में लिया। इनसे दो लाख कैश और मोबाइल बरामद किए गए हैं।

पुलिस के मुताबिक, पूछताछ में तीनों आरोपियों ने कई राज खोले हैं। पकड़े गए लोगों की निशानदेही पर राज्य के अन्य जिलों में भी जांच की जा रही है।

साजिश के पीछे एक बड़े उद्योगपति का नाम
सूत्रों के मुताबिक, राज्य के सत्ता पक्ष के कई विधायकों की खरीद-फरोख्त को लेकर आरोपियों द्वारा कोई बड़ी साजिश रची जा रही थी। इस पूरे मामले में एक बड़े उद्याेगपति का नाम सामने आ रहा है। हालांकि, अभी पुलिस की ओर से इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। कई विधायकों के इन आरोपियों से संपर्क होने की बात सामने आ रही है।

रांची के होटल से गिरफ्तार आरोपियों को थाने ले जाती स्पेशल सेल की पुलिस।
रांची के होटल से गिरफ्तार आरोपियों को थाने ले जाती स्पेशल सेल की पुलिस।

JMM का आरोप- स्थिर सरकार को गिराना चाहती है भाजपा
मामले में झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य का बयान आया है। भट्टाचार्य ने आरोप लगाया है कि भाजपा के इशारे पर झारखंड की स्थिर सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है। भाजपा के बड़े नेता राज्य की हेमंत सरकार को गिराने के लिए कई महीनों से कोशिश कर रहे हैं।

भट्टाचार्य ने कहा कि कर्नाटक, मध्यप्रदेश और राजस्थान के बाद भाजपा ने झारखंड को अगला निशाना बनाया था, लेकिन उनकी साजिश नाकाम हो गई। उन्होंने कहा कि भाजपा ऐसी हरकत करेगी, इसका अंदाजा पहले से था। दुमका उपचुनाव के समय भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा था कि बेरमो चुनाव के बाद सरकार गिर जाएगी।

भाजपा सांसद का तंज- हेमंत के विधायकों की कीमत बकरीद के बकरों से भी कम
BJP के सांसद निशिकांत दूबे ने इस पूरे मामले पर तंज कसा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा है कि अब तो 2 लाख में 4 आदमी मिलकर झारखंड में विधायक खरीद रहे हैं। झारखंड के विधायक की कीमत मुख्यमंत्री जी ने 10 हजार लगा दी। बकरीद में तो बकरे की कीमत इससे कई गुना ज़्यादा है? धन्य CM, धन्य विधायक, धन्य पुलिस।

वहीं, भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा- अंधेर नगरी, चौपट राजा। उन्होंने लिखा कि मालिक अगर अंधा हो जाए तो बिल्लियां थाली में साथ खाएंगी ही।

22 जुलाई को कांग्रेस के बेरमो विधायक ने दर्ज कराई थी शिकायत।
22 जुलाई को कांग्रेस के बेरमो विधायक ने दर्ज कराई थी शिकायत।

कांग्रेस के विधायक ने दर्ज कराई थी शिकायत
इस मामले मे कांग्रेस के बेरमो से विधायक कुमार जयमंगल सिंह ने 22 जुलाई को कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने कहा था कि कुछ लोग हवाला के पैसे से विधायकों की खरीद-फरोख्त करने की कोशिश में हैं। वे स्थिर सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में हैं। ऐसे 3-4 लोग रांची में कुछ दिनों से जमे हुए हैं।

हेमंत सरकार से सहयोगी दलों के कई विधायक नाराज
29 दिसंबर 2019 को झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) ने कांग्रेस, आरजेडी और अन्य दलों के सहयोग से राज्य में सरकार बनाई थी। जेएमएम के नेता 45 वर्षीय हेमंत सोरेन दूसरी बार झारखंड की मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे। लेकिन कुछ ही महीनोंं में सरकार के सहयोगी दलों में नाराजगी की खबर आने लगी। खुद हेमंत सोरेन की भाभी और उनकी भतीजी भी उपेक्षा के आरोप लगा चुकी हैं।

हेमंत के छोटे भाई और विधायक बसंत सोरेन भी कुछ विधायकों के साथ दिल्ली का दौरा कर चुके हैं। दूसरी तरफ कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह और इरफान अंसारी भी दिल्ली जाकर केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके है। वहीं, भाजपा से कांग्रेस में आए विधायक उमाशंकर अकेला भी विभिन्न मुद्दों को लेकर सरकार से नाराजगी जता चुके हैं।

हवाला कारोबार को लेकर कई उद्योगपतियों के ठिकानों पर पड़े थे छापे
राज्य में हाल के दिनों में हवाला कारोबार के नाम पर भी कई बार छापेमारी की गई है। 16 जुलाई को रांची, धनबाद और बोकारो में कई व्यवसायियों के ठिकानों पर छापेमारी की गई थी। वहीं, रांची शहर में भारी रकम के आने की सूचना पर शहर भर में पुलिस ने गहन जांच अभियान चलाया था। रांची में दो ट्रैवल एजेंसी के दफ्तरों पर दबिश दी गई थी।

इससे पहले रांची पुलिस ने फरवरी में भी हवाला कारोबार के नाम पर छापेमारी की थी। तब एक ट्रैवल एजेंसी के कार्यालय से नोट गिनने वाली मशीन भी पुलिस ने बरामद की थी। उस दौरान भी छापों को लेकर राजनीतिक हलकों में चर्चाएं गर्म थीं।

फरवरी में कमलनाथ ने भी माना था टूट सकती है कांग्रेस
5 फरवरी 2021 को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने भोपाल के आलीशान होटल 'नूर उस सबा' में पत्रकारों के लिए आयोजित भोज में ऑफ द रिकार्ड बात करते हुए खुद को झारखंड सरकार का संकटमोचक बताया था। कहा था कि झारखंड कांग्रेस टूट के कगार पर थी। कांग्रेस पार्टी के 4 विधायक एक खास होटल में ठहरे थे। पार्टी के 11 विधायक टूटने वाले थे। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से बात की और होटल में ठहरे चारों नाराज विधायकों को मनाने में अहम भूमिका निभाई।

खबरें और भी हैं...