पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

झारखंड में और खराब हो सकते हैं हालात:13 सैंपल में से नाै में यूके म्यूटेंट स्ट्रेन और चार में डबल म्यूटेंट स्ट्रेन पाया गया, यह 70% तक ज्यादा खतरनाक

रांची21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यूके म्यूटेंट स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट स्ट्रेन ने सरकार की चिंता और बढ़ा दी है। (सिंबॉलिक फोटो) - Dainik Bhaskar
यूके म्यूटेंट स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट स्ट्रेन ने सरकार की चिंता और बढ़ा दी है। (सिंबॉलिक फोटो)

​​​​झारखंड में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। बुधवार को 3198 नए मरीज मिले। इनमें 1273 रांची के हैं। कुल 31 लोगों की मौत भी हुई, जिनमें रांची के सात और जमशेदपुर के नौ लोग शामिल हैं। इसी बीच काेराेना के यूके म्यूटेंट स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट स्ट्रेन की झारखंड में एंट्री हाे गई है। यह 70% तक ज्यादा खतरनाक है। 13 सैंपल में से नाै में यूके म्यूटेंट स्ट्रेन और चार में डबल म्यूटेंट स्ट्रेन पाया गया है। जिन मरीजाें के सैंपल में यूके म्यूटेंट मिले, उनमें आठ रांची और एक जमशेदपुर के हैं।

वहीं जिनके सैंपल में डबल म्यूटेंट पाया गया, उनमें तीन रांची और एक पूर्वी सिंहभूम के हैं। इनमें कुछ आठ पुरुष और पांच महिलाओं के सैंपल हैं। भुवनेश्वर के रीजनल जीनाेम सिक्वेंसिंग लैब ने इसकी पुष्टि की है। कई राज्याें में काेराेना के नए स्ट्रेन पाए जाने के बाद झारखंड सरकार ने नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए 52 आरटीपीसीआर में पाॅजिटिव पाए गए सैंपल भुवनेश्वर भेजा था।

वहां इनमें से 39 सैंपल जीनाेम सिक्वेंसिंग के लिए याेग्य पाए गए। इनमें से 13 सैंपलाें में वायरस का स्तर खतरनाक मिला। जाे सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, उनका सीटी वैल्यू 25 से कम था। मेडिकल एक्सपर्ट्स इस नए स्ट्रेन को पहले से ज्यादा घातक मान रहे हैं।

ब्रिटेन में स्ट्रेन मिलते ही दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया था
ब्रिटेन में 23 दिसंबर 2020 को स्वास्थ्य मंत्री मैंट हैंकॉक ने नए स्ट्रेन (यूके स्ट्रेन) मिलने की जानकारी देश को दी थी। उसी दिन वहां रिकॉर्ड कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले। साथ ही दो दिन बाद से श्रेणी-4 की पाबंदियां लगाने की घोषणा कर दी गईं। इन्हीं पाबंदियों के बीच दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन लगाया गया और 97 दिन बाद अब धीरे-धीरे अनलॉक किया जा रहा है।

जानिए क्या हैं यूके और डबल म्यूटेंट स्ट्रेन
रिम्स के क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट डाॅ. प्रदीप भट्टाचार्य ने बताया कि यूके स्ट्रेन कोरोना के अन्य स्ट्रेन से 70% ज्यादा खतरनाक है। यह कोशिकाओं को कमजोर कर देता है और तेजी से संक्रमित करता है। वहीं मार्च के अंत में नेशनल सेंटर फाॅर डिजीज कंट्राेल ने नए वेरिएंट डबल म्यूटेंट की जानकारी दी थी। इसे बी.1.617 नाम दिया था। इसे डबल म्युटेंट इसलिए कहा गया कि इस वायरस के जिनाेम में दाे बार बदलाव हाे चुका है। दरअसल, ये वायरस खुद काे लंबे समय तक प्रभावी रखने के लिए लगातार अपनी जेनेटिक संरचना में बदलाव लाते रहते हैं, ताकि उन्हें खत्म न किया जा सके।

एक्सपर्ट की अपील: संक्रमण के बाद सांस फूले; पहले से किडनी व लीवर की समस्या से पीड़ित हों और सीटी वैल्यू 20 से नीचे हो, तभी जाएं अस्पताल

काेराेना इन्फ्लूएंजा फैमिली का ही वायरस है। इसलिए सर्दी-खांसी, बुखार हाेते ही अस्पताल न जाएं। तीन-चार दिन इंतजार करें। खुद काे आइसाेलेट कर डाॅक्टर की सलाह से दवा लें। लगातार चार-पांच दिन तक 102 डिग्री से ज्यादा बुखार हाे, सर्दी-खांसी, बदन दर्द हो, दाे कदम चलने पर अंधेरा छा जाए, स्वाद खत्म हाे जाए ताे काेराेना हाे सकता है। यह कहना है एमजीएम अस्पताल के पूर्व प्रिंसिपल डाॅ. एसी अखाैरी का। उन्हाेंने कहा कि इस सीजन में सर्दी-खांसी, बुखार की समस्या आम है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें