पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

5 लाख बच्चों की चिंता:मैट्रिक-इंटर के परीक्षार्थियों के लिए स्कूल व घर में बनाएं बेहतर माहौल

रांची4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वेबिनार में मनोचिकित्सक, शिक्षक व पैरेंट्स ने रखी राय

मैट्रिक और इंटर के पांच लाख बच्चों की चिंता के लिए मंगलवार को वेबिनार के जरिए विभागीय सचिव राहुल शर्मा से लेकर कई मनोचिकित्सक, शिक्षा अधिकारी, शिक्षक और अभिभावकों ने एक साथ विचार-विमर्श किया। करीब छह हजार लोगों ने तीन घंटे की चर्चा के बाद समाधान निकाला कि अभिभावक अपने बच्चों के साथ समय गुजारें। उन पर अच्छे रिजल्ट का दबाव न डालें। उसकी पढ़ाई की समय-सारणी ठीक करें। उसके साथ खेलें। खुद खुश रहें और बच्चों को भी खुश रखें।

मैट्रिक और इंटर के इन परीक्षार्थियों के लिए स्कूल और घर में बेहतर माहौल बनाएं। चूंकि पाठ्यक्रम भी छोटा होगा, ऐसे में बच्चों को समझाएं कि वे ज्यादा तनाव न लें। उन्हें भरोसा दिलाएं कि उनका रिजल्ट और कैरियर अच्छा होगा। बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य एवं परीक्षा की तैयारी विषय पर आयोजित इस वेबिनार में राज्य परियोजना निदेशक शैलेश चौरसिया ने कहा कि सभी वर्ग के लोग कोरोना काल में प्रभावित हुए हैं। एक बदलाव आया है, जिसका पॉजिटिव ढंग से सामना करना है।

तीन घंटे के विचार के बाद निकला समाधान

बच्चों के साथ समय गुजारें, अच्छे रिजल्ट का दबाव न डालें, पढ़ाई का समय ठीक करें

निष्कर्ष... खुश रहें, अपने बच्चों को भी खुश रखें

ऑनलाइन क्लास वास्तविक कक्षा का विकल्प नहीं है

शिक्षा सचिव राहुल शर्मा ने कहा कि ऑनलाइन कक्षाएं कभी भी वास्तविक कक्षा का विकल्प नहीं हो सकती। यह एक सप्लीमेंट भर है। मात्र एक तिहाई बच्चे ही ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। चुनौती यह है कि इसे बढ़ाकर 40-50 प्रतिशत तक कैसे किया जाए। झारखंड में सभी तक इंटरनेट की पहुंच नहीं है। इसीलिए दूरदर्शन पर कार्यक्रम प्रसारित किए जा रहे हैं।

बच्चों की सुनें, उनमें सेंस ऑफ एनवायरमेंट जगाएं

सीआईपी के मनोचिकित्सक डॉ. निशांत गोयल ने कहा कि बच्चों को सुनें। उनकी बातों को महत्व दें। बच्चों में सेंस ऑफ एनवायरमेंट जगाएं। उनके साथ बात करें। गाना गाएं। इंडोर गेम्स खेलें। किसी गलती पर उन्हें डांटे नहीं, अच्छे काम के लिए प्रोत्साहित करें। उनके सवालों को न टालें। बेवजह गुस्सा ना करें। उनसे झूठ ना बोलें। बच्चों को कहें कि जिन्हें आप नहीं जानते, उन्हें फ्रेंड रिक्वेस्ट ना भेजें।

परीक्षार्थी बनाएं समय सारिणी और तैयार करें स्टडी मटेरियल

मनोचिकित्सक डॉ. अनुराधा वत्स ने मैट्रिक और इंटर परीक्षा की तैयारी पर कहा कि परीक्षार्थी पहले समय सारिणी बनाएं और स्टडी मेटेरियल तैयार करें। इसके बाद हर विषय के कोर्स को तीन भाग में बांटें। वैसे अध्याय जो पूरी तरह आते हैं, वैसे जो आधा मालूम हों और वैसे अध्याय जिसे नहीं पढ़ा है, उसे 50% तक जरूर पढ़ लें।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें