पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लगातार मौतों से बढ़ी परेशानी:श्मशान में 109 शवों का हुआ अंतिम संस्कार, 63 थे कोरोना संक्रमित, कब्रिस्तानों में भी जगह नहीं

रांची5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डोरंडा कब्रिस्तान में खाली जगह ढूंढ-ढूंढ कर खोदी जा रही कब्र, कई बार तो हडि्डयां भी मिल जाती हैं। - Dainik Bhaskar
डोरंडा कब्रिस्तान में खाली जगह ढूंढ-ढूंढ कर खोदी जा रही कब्र, कई बार तो हडि्डयां भी मिल जाती हैं।
  • डोरंडा-कांटाटोली कब्रिस्तान कमेटी ने की अपील- लोग पास के कब्रिस्तान में जनाजे दफनाएं

कोरोना महामारी के बीच मृतकों की संख्या में इन दिनों लगातार इजाफा हो रहा है। इस कारण अब कब्रिस्तान में भी जगह कम पड़ने लगा है। ऐसे में डोरंडा और कांटाटोली कब्रिस्तान के अध्यक्ष ने आम लोगों से अपील की है कि वे अपने आसपास के कब्रिस्तान में ही जनाजे को दफन करें। क्योंकि, दोनों जगह में अब जगह की किल्लत होने लगी है।

दरअसल रांची में रातू रोड कब्रिस्तान, डोरंडा ईदगाह व कांटाटोली कब्रिस्तान में सबसे अधिक जनाजे दफन होते हैं। इन तीनों कब्रिस्तान में सबसे ज्यादा जगह रातू रोड कब्रिस्तान में है। इसलिए, फिलहाल यहां अभी कोई परेशानी नहीं है। मगर जिस प्रकार कोरोना काल में मृतकों की संख्या में इजाफा हो रहा है, अगर यही स्थिति रही, तो पांच-छह महीने के बाद यहां भी जगह की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

मोक्षधाम की मशीन का ट्रायल आज

हरमू मोक्षधाम की खराब मशीन की मरम्मत 24 अप्रैल को होगी। मशीन में लगे कई पार्टस टूट गए थे। नए पार्टस दिल्ली से पहुंच गए हैं। शनिवार को वेल्डिंग करने के बाद मशीन का ट्रॉयल किया जाएगा। यह सफल रहा तो कोरोना संक्रमित शव की अंत्येष्टि रविवार से मोक्षधाम में होगी। इधर, कोरोना संक्रमित शव की अंत्येष्टि के लिए घाघरा में रोजाना एंबुलेंस की कतार लग रही है। सुबह 10 बजे से देर रात तक लगातार शव जलाया जा रहा है। सामूहिक रूप से शवाें का अंतिम संस्कार होने की वजह से एंबुलेंस से शव लेकर आने वाले परिजनों को तीन से चार घंटा इंतजार करना पड़ रहा है। अधिक समय लगने से एंबुलेंस चालक भी अधिक पैसे वसूल रहे हैं। शुक्रवार को भी घाघरा श्मशान घाट के बाहर कोरोना संक्रमित के शव लेकर आए एंबुलेंस की लंबी कतार लगी रही। देर शाम तक कुल 61 शवाें का अंतिम संस्कार किया गया। शहर के 4 श्मशान और दो कब्रिस्तान में कुल 109 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। इसमें 63 कोरोना संक्रमित थे। दो संक्रमित के शव को रातू रोड कब्रिस्तान में दफन किया गया।

खबरें और भी हैं...