अपनी माटी पहुंचा झारखंड के जवान का शव:26 पंजाब रेजिमेंट के EME सेक्शन में नायक के पद कार्यरत थे मांडर के दशरथ उरांव, ब्रेन हेमरेज से हुई थी मृत्यु

रांची9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जवान दशरथ उरांव 26 पंजाब रेजिमेंट में EME सेक्शन में नायक के पद पर कार्यरत थे। वे मूल रूप से मांडर थाना क्षेत्र के बरगड़ी के रहने वाले थे। उन्होंने बाद में रातू के बरजपुर में घर बनवाया था। - Dainik Bhaskar
जवान दशरथ उरांव 26 पंजाब रेजिमेंट में EME सेक्शन में नायक के पद पर कार्यरत थे। वे मूल रूप से मांडर थाना क्षेत्र के बरगड़ी के रहने वाले थे। उन्होंने बाद में रातू के बरजपुर में घर बनवाया था।

झारखंड के जवान दशरथ उरांव का शव उनकी मिट्‌टी में पहुंच गया है। पंजाब रेजिमेंट में पोस्टेड जवान दशरथ उरांव शव शनिवार को रांची पहुंचा। जवान की निगरानी में दशरथ उरांव का शव बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर पहुंचा। एयरपोर्ट से उनका शव उनके पैतृक गांव मांडर थाना क्षेत्र के बरगड़ी में ले जाया जाएगा। जहां पारंपरिक रीति रिवाज से अत्येष्टि कार्यक्रम होगा।

दशरथ रातू थाना क्षेत्र स्थित बरजपुर गांव के रहने वाले थे। वह पंजाब रेजिमेंट में और पंजाब में ही पदस्थापित थे। शुक्रवार को यूनिट परिसर में ही ब्रेन हेमरेज से उनकी मौत हो गई थी। रेजिमेंट के साथी जवानों ने ही उनकी मौत की सूचना उनके परिजनों को दी थी। जानकारी के अनुसार, दशरथ 23 जुलाई 2003 को सेना में बहाल हुए थे।

सरकारी स्कूल में टीचर हैं पत्नी

जवान दशरथ उरांव 26 पंजाब रेजिमेंट में EME सेक्शन में नायक के पद पर कार्यरत थे। वे मूल रूप से मांडर थाना क्षेत्र के बरगड़ी के रहने वाले थे। उन्होंने बाद में रातू के बरजपुर में घर बनवाया था। जहां उनकी पत्नी शकुंतला कुमारी, एक बेटा आठ साल का अविनाश उरांव व एक बेटी तीन साल की श्रेया कुमारी के साथ रहती हैं। पत्नी सरकारी स्कूल की शिक्षिका हैं।