डीएवी कपिलदेव के प्राचार्य पर लगा यौन शोषण का आरोप:ब्लड प्रेशर चेक कराने के बहाने बुलाते थे प्रिंसिपल, टच करते थे प्राइवेट पार्ट, एफआईआर

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
थाने में दर्ज कराई गई शिकायत। - Dainik Bhaskar
थाने में दर्ज कराई गई शिकायत।

राजधानी के एक प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थान के प्रिंसिपल पर स्कूल में कार्यरत नर्स ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। पीड़िता ने डीएवी कपिलदेव के प्रिंसिपल मनोज कुमार सिन्हा के खिलाफ इस संबंध में अरगोड़ा थाना में एफआईआर दर्ज कराया है। पीड़िता ने अपने आवेदन में कहा कि प्रिंसिपल हर रोज ब्लड प्रेशर चेक कराने के बहाने अपने चैंबर में बुलाते थे फिर धीरे-धीरे उसका प्राइवेट पार्ट टच करते थे। सेफ्टी के तौर पर वह हमेशा अपने साथ अपना फोन ऑन करके जाती थी। इसकी जानकारी प्रिंसिपल को नहीं थी। पीड़िता ने प्राचार्य की करतूत का वीडियो बना लिया। इसे सबूत के तौर पर पुलिस के समक्ष पेश किया गया है।

अश्लील हरकत के लिए बनाते थे दबाव
इतना ही नहीं प्राचार्य शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव डालते थे। खाली समय पर वाट्सएप चैट या कॉल करने का दबाव भी बनाते थे। उसने कहा कि प्रिंसिपल उनके वाट्सएपपर अश्लील वीडियो भी भेजते थे। कई बार उन्होंने न्यूड वीडियो कॉल करने के लिए दबाव ही बनाया। पीड़िता ने कभी उसकी बात नहीं मानी।

गरीबी की वजह से करनी पड़ रही है नौकरी
पीड़िता ने थाना में दिए गए अपने आवेदन में कहा है कि वह बहुत गरीब परिवार से है और नौकरी करना उसके लिए बहुत जरूरी है। चूंकि घर की जिम्मेदारी उसके ऊपर है इसलिए वह काम कर रही है।

जबरदस्ती करने की भी की थी कोशिश
उसने बताया कि एक दिन प्रिंसिपल जबरन उसके कमरे में चले आए। उसके साथ जबरदस्ती करने लगे उसका वीडियो भी उसके पास है। इस संबंध में उसने स्कूल के अन्य शिक्षकों से भी ये बात शेयर की लेकिन तब तक लॉक डाउन हो गया और स्कूल बंद हो गया।

उसने अपने शिकायत पत्र में लिखा है कि इससे पहले भी महिला टीचर प्रिंसिपल के व्यवहार से तंग आकर स्कूल छोड़ चुकी हैं। कुछ लोग नौकरी जाने के डर से प्रिंसिपल के खिलाफ आवाज नहीं उठाते हैं। इस मामले में थाना प्रभारी विनोद कुमार ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद अनुसंधान किया जा रहा है।