• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Despite The Instructions Of The Municipal Commissioner, The Cleaning Of The Ponds Did Not Start Even After 3 Days Of Idol Immersion

सफाई का निर्देश:नगर आयुक्त के निर्देश के बावजूद प्रतिमा विसर्जन के 3 दिन बाद भी शुरू नहीं हुई तालाबों की सफाई

रांची7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लाइन टैंक तालाब में फैले हुए हैं विसर्जित प्रतिमाओं के अवशेष। - Dainik Bhaskar
लाइन टैंक तालाब में फैले हुए हैं विसर्जित प्रतिमाओं के अवशेष।
  • अधिकतर तालाबों में प्रतिमाओं के अवशेष व कचरा फैला है, पार्षदों ने मुहल्लों में कृत्रिम छठ घाट बनाने की मांग की

दुर्गा पूजा बीते तीन दिन हो गए, पर तालाब प्रतिमाओं के अवशेष से पटे पड़े हैं, जबकि नगर आयुक्त ने विसर्जन के 24 घंटे के अंदर सफाई का निर्देश दिया था। दैनिक भास्कर ने मंगलवार को प्रमुख तालाबों की पड़ताल की, तो सभी के हालात एक जैसे दिखे। कई तालाबों की सफाई तो सालभर से नहीं हुई है। नगर निगम ने बरियातू के जोड़ा तालाब के सौंदर्यीकरण पर एक करोड़ रुपए खर्च किए, फिर भी स्थिति बदतर है। ऐसी ही स्थिति रिम्स कैंपस से सटे टुनकी टोला तालाब की है।

इस पर भी 70 लाख रुपए खर्च कर किए गए हैं, लेकिन आज यहां खड़ा होना भी मुश्किल है। अधिकतर तालाबों की यही स्थिति है। यदि जल्द सफाई अभियान शुरू नहीं हुआ, तो इस बार छठ घाटों पर जाने की छूट मिली भी तो व्रती गंदगी देखकर नहीं जाएंगे।

कृत्रिम घाट बनाने की मांग
पार्षदों ने कोरोना को देखते हुए छठ के लिए सभी वार्डों में कृत्रिम घाट बनाने की मांग की है। पार्षद अरुण झा ने बताया कि कृत्रिम छठ घाट से व्रतियों को काफी सुविधा होगी।

छठ तक नियमित सफाई होगी
दिवाली से पहले सभी तालाब हर हाल में साफ होंगे। काली पूजा के बाद तालाबों की नियमित सफाई होगी। मैं खुद घाटों का जायजा लूंगा कृत्रिम घाटभी बनाएंगे । -मुकेश कुमार, एमसी

खबरें और भी हैं...