• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • DGP Neeraj Sinha Ordered CID Investigation, The Death Of Palamu Darega, Now CID Will Investigate The Simdega Mob Lynching

मौत पर बवाल:डीजीपी नीरज सिन्हा ने दिए सीआईडी जांच के आदेश, पलामू दाराेगा की मौत, सिमडेगा माॅब लिंचिंग की जांच अब सीआईडी करेगी

रांची4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लालजी यादव, मृतक संजू - Dainik Bhaskar
लालजी यादव, मृतक संजू
  • दोनों मौत केस में सरकार पर भी था निष्पक्ष जांच का दबाव

पलामू के नवाबाजार थाने के निलंबित दारोगा लालजी यादव के कथित आत्महत्या और सिमडेगा में भीड़ द्वारा संजू प्रधान की गई हत्या के मामले की जांच अब सीआईडी करेगी। डीजीपी नीरज सिन्हा ने गुरुवार को दाेनाें मामलाें की जांच सीआईडी से कराने का निर्णय लिया। इससे संबंधित लिखित आदेश पुलिस मुख्यालय द्वारा जल्द जारी किया जाएगा।

दोनों ही मामलों में झारखंड पुलिस की काफी किरकिरी हो रही है। दारोगा लालजी यादव के आत्महत्या मामले में परिजनों ने पलामू के एसपी चंदन कुमार सिन्हा और डीटीओ पर गंभीर आरोप लगाते हुए मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है। इस मामले में गुरुवार को भी दारोगा के पैतृक गांव साहिबगंज में जोरदार प्रदर्शन हुआ।

वहीं सिमडेगा के कोलेबिरा में भीड़ द्वारा संजू प्रधान को पीट-पीटकर हत्या व जलाने के मामले में भी पुलिस की कार्यशैली पर गंभीर सवाल उठे हैं। आरोप है कि जब भीड़ द्वारा संजू की मॉब लिंचिंग की जा रही थी, तब वहां पुलिसकर्मियों ने संजू को बचाने की कोशिश नहीं की। इन दोनों मामलों की निष्पक्ष जांच की मांग की जा रही थी। भाजपा ने बुधवार को राज्यपाल रमेश बैस से मिलकर लालजी की मौत के मामले की जांच की निष्पक्ष जांच की मांग उठाई थी।

तलब का असर, राज्यपाल रमेश बैस ने एक दिन पूर्व ही मॉब लिंचिंग केस में डीजीपी को बुलाया था
सिमडेगा के कोलेबिरा में भीड़ के हाथों मारे गए संजू प्रधान नामक युवक की हत्या के मामले की जांच सीआईडी करेगी। एक दिन पूर्व राज्यपाल रमेश बैस ने डीजीपी नीरज सिन्हा को तलब कर इस मामले की विस्तृत जानकारी ली थी। उन्हाेंने घटना की निंदा करते हुए निष्पक्ष जांच कराने काे भी कहा था। इसके बाद ही पुलिस मुख्यालय ने इस मामले की सीआईडी जांच कराने का निर्णय लिया है।

आरोप: लालजी ने खुदकुशी नहीं की, उसकी हत्या हुई है
पलामू के नवाबाजार थाने के निलंबित दारोगा लालजी यादव ने तीन दिन पहले अात्महत्या कर ली थी। दारोगा के छोटे भाई संजीत कुमार यादव ने पलामू क्षेत्र के डीआईजी राजकुमार लकड़ा को आवेदन देकर एसपी पलामू चंदन कुमार सिन्हा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि लालजी यादव ने खुदकुशी नहीं की, बल्कि उनकी हत्या की गई है। पलामू एसपी पिछले कुछ दिनों से अवैध बालू, गिट्टी वाले ट्रकों को चलवाने का दबाव बना रहे थे। लालजी यादव पिछले दिनों जब घर आए थे तो वे काफी निराश और तनाव में थे।

पंचायत लगा ग्रामीणों ने संजू को सुनाई थी मौत की सजा
सिमडेगा मामले में प्रारंभिक रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण पहले संजू को बुलाकर ले गए थे। बेसराजारा बाजार के समीप पंचायत लगी। आरोप लगाया कि संजू वन क्षेत्र से लकड़ी की तस्करी करता है। उसको खूंटकटी के नियम के तहत मौत की सजा सुनाई गई। इसके बाद संजू की हत्या कर दी गई। इसके बाद लकड़ी का ढेर लगा। उसमें आग लगाकर संजू को जला दिया गया। 32 वर्षीय संजू घटनास्थल से महज 100 मीटर दूर बेसराजरा में ही घर बनाकर रह रहा था। आरोप है कि उस दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रहीं, कुछ भी नहीं किया।

मंत्री मिथिलेश की मांग, दारोगा मामले की उच्चस्तरीय जांच हो
राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने दारोगा लालजी यादव आत्महत्या मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि जिन परिस्थितियों में दारोगा ने आत्महत्या की है, उसको लेकर भ्रम की स्थिति है। पूरे पलामू प्रमंडल एवं राज्य के अन्य जगहों पर आम लोग अपने-अपने तरीके से इसका आकलन कर रहे हैं। डीटीओ पलामू द्वारा टेलिफोनिक अनुशंसा को भी इस पूरे घटनाक्रम से जोड़ कर लोग देख रहे हैं, इसलिए इसका खुलासा जरूरी है।

खबरें और भी हैं...