धनबाद जज की हत्या में नया एंगल:CBI ने कहा- मोबाइल लूट की कोशिश में हो सकती है हत्या, चीफ जस्टिस ने किया खारिज

रांची16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

धनबाद के जज उत्तम आनंद की हत्या के मामले में अब CBI नए एंगल पर काम कर रही है। CBI ने शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट को बताया, 'हो सकता है मोबाइल लूट की कोशिश में उनकी हत्या की गई है। जांच अभी भी जारी है। दोबारा से ब्रेन मैपिंग और नारको टेस्ट में भी कुछ नहीं मिला है। और भी कुछ टेस्ट किए गए हैं, जिनकी रिपोर्ट अभी आने वाली है।' इस पर चीफ जस्टिस ने कहा, 'CCTV में लूट की कोई घटना दिखाई नहीं दे रही है। जबकि यह स्पष्ट दिखाई दिया कि उन्हें जानबूझकर मारा गया है।' मामले की अगली तारीख 14 जनवरी तय की गई है।

28 जुलाई को मॉर्निंग वाक के दौरान जज उत्तम आनंद को ऑटो ने टक्कर मार दी थी। इसके बाद अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई थी।
28 जुलाई को मॉर्निंग वाक के दौरान जज उत्तम आनंद को ऑटो ने टक्कर मार दी थी। इसके बाद अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई थी।

यह केस मिस्ट्री ऑफ अनएक्सप्लेंड की ओर बढ़ रहा

सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन ने कहा, 'CBI की ओर से किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाना मुश्किल लग रहा है। यह केस मिस्ट्री ऑफ अनएक्सप्लेंड की ओर बढ़ता नजर आ रहा है। जितना समय अभियुक्तों को मिलेगा, उससे सबूतों को खोजने में उतनी ही दिक्कत होगी।'

आरोपियों की दो बार हो चुकी है ब्रेन मैपिंग

हत्या के मामले में दो आरोपी लखन वर्मा और राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया गया है। दोनों की दो बार ब्रेन मैपिंग और नारको टेस्ट हो चुकी है, लेकिन अभी तक पुख्ता कारणों का पता नहीं चल पाया है।

हाईकोर्ट कर रहा है जांच की मॉनिटरिंग

जज की मौत मामले की चल रही CBI जांच की झारखंड हाईकोर्ट मॉनिटरिंग कर रहा है। हर सप्ताह CBI को कोर्ट में जांच की प्रगति रिपोर्ट पेश करनी पड़ रही है। बता दें, 28 जुलाई को मॉर्निंग वाक के दौरान जज उत्तम आनंद को ऑटो ने टक्कर मार दी थी। इसके बाद अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई थी। दोनों आरोपियों को अगले ही दिन गिरफ्तार कर लिया गया था।