पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राहत:डायल 104, रोज 100 लोग मांग रहे ऑक्सीजन बेड; रांची में नहीं पर सर्किट में सबको मिल रहा बेड

रांची9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • रांची से 134 कॉल आए, इनमें 112 को इमरजेंसी मानते हुए 103 केस का हुआ समाधान

काेराेना के बढ़ते संक्रमण के बाद बेकाबू हुई व्यवस्था में मुख्यमंत्री हेमंत साेरेन की पहल पर शुरू की गई हेल्पलाइन 104 जरूरतमंदों को राहत दे रही है। हेल्पलाइन पर रोजाना लगभग 3 हजार काॅल आ रहे हैं। इनमें औसत 100 लाेग बेड के लिए फाेन कर रहे हैं। रविवार काे हेल्पलाइन नंबर पर 94 लाेगाें ने रांची सर्किट के लिए बेड मांगे। सभी काे बेड उपलब्ध कराया गया। पर बेड रांची के अलावा पड़ाेसी जिले के अस्पतालाें में दिलाए जा रहे हैं।

हालांकि कुछ लाेग जाे रांची से बाहर जाने काे राजी नहीं हैं, वैसे मरीजाें को मदद नहीं मिल रही है। इधर, साेमवार काे रांची के सदर अस्‍पताल में ऑक्सीजन वाले 15 बेड खाली थे। इसकी जानकारी भी हेल्पलाइन पर दी जा रही थी। 104 हेल्पलाइन पर काॅल करने वालाें काे बेड के अलावा, चिकित्सा परामर्श, दवाइयां, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर की उपलब्धता, हाेम आइसोलेशन वाले मरीजाें काे किट दिलाने जैसी सहायता की जा रही है। हेल्पलाइन नंबर 104 के बेड मैनेजमेंट के पास एक मई को रांची के लिए कुल 134 कॉल आए। जिसमें 112 को अर्जेंट मानते हुए 103 मामले को हल कर दिया गया। वहीं, 9 लोगों ने अपने स्तर से बेड की व्यवस्था की जानकारी दी।

सदर अस्पताल सहित निजी अस्पताल का वेटिंग टाइम घटा

बेड को लेकर कुछ दिनों पहले तक जो अफरातफरी मची थी, इसमें कमी आई है। सरकार ने रांची, जमशेदपुर, हजारीबाग और धनबाद काे काेविड सर्किट से जोड़ा है। इसमें मरीज को जहां बेड खाली है, वहां के आसपास के जिलों में भेजा जा रहा है। इसके कारण रांची में सदर अस्पताल सहित अन्य निजी अस्पतालों का बेड के लिए वेटिंग टाइम घट गया है। कंट्रोल रूम के पदाधिकारियों के अनुसार पहले सदर अस्पताल में वेटिंग टाइम 12 घंटे का था। अब आधा घंटा कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें