• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Every Farmer Used To Cultivate Paddy Only 3 Years Ago, Where The PM Praised The Deori Village Of Ranchi, The Earning Was Also Three Thousand Per Month, Aloe Vera Made 15 Thousand

महिला सशक्तिकरण:पीएम ने रांची के जिस देवरी गांव की प्रशंसा की वहां हर किसान 3 साल पहले सिर्फ धान की खेती करता था, कमाई भी तीन हजार प्रति माह थी, एलोवेरा से 15 हजार हुई

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देवरी गांव की मुखिया ने प्रशिक्षण लेकर एलोवेरा उगाया। - Dainik Bhaskar
देवरी गांव की मुखिया ने प्रशिक्षण लेकर एलोवेरा उगाया।
  • देवरी गांव में 90 परिवार हैं, केंद्रीय योजना के तहत आज 20 परिवार एलोवेरा की खेती कर रहे हैं
  • गांव की 12 से 13 महिलाएं पूर्णरूप से एलोवेरा खेती से जुड़ीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात प्रोग्राम में रांची के नगड़ी ब्लॉक के देवरी गांव की प्रशंसा की कि कैसे इस गांव के लोग एलोवेरा की खेती से अच्छी कमाई कर रहे हैं और आज पूरा गांव एलोवेरा विजेल के नाम से जाना जाता है। दरअसल इस गांव की इस उपलब्धि के पीछे यहां की महिलाओं का बड़ा योगदान है। मुखिया मंजू कच्छप ने बताया कि तीन साल पहले बिरसा कृषि विश्वविद्यालय से एलोवेरा की खेती का प्रशिक्षण लेकर गांव में अपनी बंजर जमीन पर एलोवेरा की खेती शुरू की।

उनके साथ 35 अन्य आदिवासी महिलाओं ने भी प्रशिक्षण लिया। इसके बाद उन्होंने गांव में इसकी खेती शुरू की। उन्होंने बताया कि पहले उनका परिवार सिर्फ धान की खेती करता था, लेकिन अब धान के साथ एलोवेरा की भी खेती करता हैं। धान से जहां औसत उन्हें तीन हजार रुपए महीने की आमदनी होती थी वहीं अब एलोवेरा से 10 से 15 हजार महीने की आमदनी हो रही है। उनकी उन्नत खेती को देख गांव के 20 परिवारों ने एलोवेरा की खेती करना शुरू कर दिया और आज देवरी गांव देश में एलोवेरा विलेज के नाम से प्रसिद्ध हो गया है।

महिला सशक्तिकरण: गांव की 12 से 13 महिलाएं पूर्णरूप से एलोवेरा खेती से जुड़ीं
मंजू कच्छप ने बताया कि बिरसा कृषि विश्वविद्यालय से प्रशिक्षण लेने के बाद उन्हें 6 हजार एलोवेरा के पौध मिले। साथ ही बेबी प्लांट डेवलप के लिए एक ग्रीन शेड भी दिया गया। आज गांव की 12-13 महिलाएं एलोवेरा की खेती से पूर्णरूप से जुड़ी हुई हैं और प्रत्येक माह 10 से 15 हजार रुपए की कमाई कर रही हैं। उन्होंने बताया कि एलोवेरा की पत्तियां 30 से 35 रुपए प्रति किलो की दर से बिक्री होती है।

हमें बिक्री के लिए कहीं जाना नहीं होता है लोग हमारे खेत से ही आकर एलोवेरा ले जाते हैं। वजन में चार से छह एलोवेरा की पत्तियां का वजन 1 किलो होता है। महीने में लगभग 5 से 6 क्विंटल एलोवेरा की पत्तियां बेचते हैं। एलोवेरा लेने वाले रांची, झुमरी तलैया, गुमला सहित बाहर के कुछ लोग हैं जो इससे आयुर्वेद के उत्पाद निर्मित करते हैं। वहीं खेल गांव, मोराबादी, करम टोली सहित रांची के लोग हैं जो इसका जूस बेचते हैं वह हमारे रेगुलर कस्टमर हैं।

खबरें और भी हैं...