• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Every Fourth House Infected In Dozens Of Localities, Only SSP Housing Became Micro Cantonment Zone, Active Cases Increased From 99 To 5,819 In 15 Days

रांची में कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड:दर्जनों मुहल्लों में हर चौथा घर संक्रमित, सिर्फ एसएसपी आवास ही बना माइक्रो कंटोनमेंट जोन,15 दिनों में एक्टिव केस 99 से बढ़कर 5,819 हो गए

रांची22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ये अनदेखी ठीक नही, रिम्स के 300 से अधिक डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ संक्रमित हो चुके हैं, इसलिए ये भी जांच के लिए कतार में हैं। लेकिन इनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है। जबकि कम से कम छह फीट की दूरी का पालन करना है जरूरी। - Dainik Bhaskar
ये अनदेखी ठीक नही, रिम्स के 300 से अधिक डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ संक्रमित हो चुके हैं, इसलिए ये भी जांच के लिए कतार में हैं। लेकिन इनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है। जबकि कम से कम छह फीट की दूरी का पालन करना है जरूरी।
  • डॉ. देवेश ने कहा- जिस तरह से संक्रमित मिल रहे हैं ये कम्युनिटी स्प्रेड ही है, दूसरे राज्यों में ऐसा ही ट्रेंड
  • संक्रमण की रफ्तार, कोरोना की चेन तोड़ने के लिए गाइडलाइन का पालन करना ही बड़ा हथियार

राजधानी रांची में कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड शुरू हो चुका है। मात्र 15 दिनों के अंदर संक्रमितों की संख्या 99 से बढ़कर 5 हजार 819 हो गई है। 23 दिसंबर को जहां रांची में मात्र 99 एक्टिव केस थे, व‌ो अब हजारों में पहुंच गए हैं। एक दर्जन से अधिक मुहल्लों में हर चौथे घर के लोग संक्रमित हैं। इसके बावजूद रांची जिला प्रशासन कम्युनिटी स्प्रेड रोकने की दिशा में कोई ठोस पहल नहीं कर रहा है। अभी तक सिर्फ एसएसपी के आवास को ही माइक्रो कंटोनमेंट जोन बनाया गया है। जबकि, राज्य सरकार का स्पष्ट आदेश है कि जहां ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं, वहां माइक्रो कंटोनमेंट जोन बनाएं। कंटोनमेंट जोन नहीं बनने से होम आइसोलेशन में रहनेवाले अधिकतर लोग अपने दैनिक कार्यों के लिए बाहर निकल रहे हैं, क्योंकि अधिकतर संक्रमित मरीजों में गंभीर लक्षण नहीं हैं। हालांकि, जिस तरह से लगातार केस बढ़ रहे हैं एक्सपर्ट इसे कम्युनिटी स्प्रेड बता रहे हैं।

रिम्स के कोविड टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. देवेश कुमार ने बताया कि जिस तरह से संक्रमित के संपर्क में आनेवाले पॉजिटिव मिल रहे यह कम्युनिटी स्प्रेड ही है। झारखंड ही नहीं, कई अन्य राज्यों में भी कम्युनिटी ट्रांसमिशन शुरू है। संक्रमण को रोकने के लिए सरकार के स्तर से कड़े कदम उठाने की जरूरत है, संक्रमित को घर में रहने की अनुमति तो दी जा रही लेकिन इसके बाद भी सुनने में आ रहा है कि कई संक्रमित घर से निकल कर यहां-वहां घूम रहें है। इसकी मॉनिटरिंग की जरूरत है।

दैनिक भास्कर ने भी रोजाना मिलने वाले संक्रमितों की पड़ताल की। पता चला कि जिले के कई ऐसे मोहल्ले हैं जहां हर चौथे घर का सदस्य संक्रमित है। इसमें मोरहाबादी, कोकर, बरियातू आदि के कई मोहल्ले शामिल है।

निर्देश कागजों तक सिमटा, ये था निर्देश- जहां ज्यादा संक्रमित मिले रहे उसे माइक्रो कंटोनमेंट बनाएं

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने कई बार सभी जिला के डीसी को निर्देश जारी किया है। कोविड गाइडलाइन के पालन के साथ वैसे इलाकों को चिह्नित करें जहां ज्यादा संख्या में संक्रमित मिल रहे हैं, उसे माइक्रो कंटोनमेंट जाेन बनाने का निर्देश दिया। बावजूद अब तक जिले में इसकी पहल नहीं हुई है।

दैनिक भास्कर पड़ताल में पता चला कि जिले के कई मोहल्ले ऐसे हैं जहां एक-एक घर में दर्जनों संक्रमित हैं। लेकिन, घर के बाहर जिला प्रशासन द्वारा पोस्टर नहीं चस्पां किया गया। बताते चलें कि रिम्स डॉक्टर्स कॉलोनी में कई घर ऐसे हैं, जहां घर के पांच- छह सदस्य संक्रमित हैं। अधिकांश घर रिम्स के डॉक्टर्स के हैं। पर यदि किसी घर में सावधान करने वाला पोस्टर न लगा हो, तो कोई भी उस घर में प्रवेश कर खुद भी संक्रमित हो सकता है।

  • 3 केस स्टडी, समझें कैसे फैल रहा संक्रमण

केस- 01) मोरहाबादी, हरिहर सिंह रोड में कई घरों के लोग संक्रमित

माेरहाबादी, चिरौंदी रोड व चुरू कंपाउंड में कई घरों में 4 से 5 सदस्य संक्रमित हैं। घर वाले सचेत हैं और बाहर मूवमेंट नहीं कर रहे, लेकिन बाहर से आने वालों को इसकी जानकारी नहीं है कि उस घर में संक्रमित हैं। सावधान करने वाला पोस्टर लगने से कम से कम दूध वाला, पेपर वाला, राशन वाला आदि सचेत हो सकते हैं।

केस- 02) 2. कोकर के बजरंग नगर में कई घरों में 5-7 पॉजिटिव

कोकर के बजरंग नगर (हैदर अली गली) में कई घर ऐसे मिले जिसमें परिवार के ही 5 से 7 सदस्य पॉजिटिव हैं। सूचना है कि कई घरों से संक्रमित बाहर निकल कर यहां-वहां घूमते हैं। कई सब्जी लेते भी देखे गए हैं। वहीं, कई घर के आसपास के पड़ोसी को भी पता नहीं चल पा रहा है कि उनके सामने वाले घर में कोई संक्रमित है।

केस- 03) बरियातू डॉक्टर्स कॉलोनी में डॉक्टरों के घर ही हैं पॉजिटिव ​​​​​​​

रिम्स के डॉक्टर्स को बरियातू थाना के पीछे डॉक्टर्स कॉलोनी में घर अलॉट है। अधिकतर घरों में डॉक्टर से लेकर उनका परिवार संक्रमित है। एक-एक घर में 4-5 संक्रमित होम आइसोलेशन में है। लेकिन यहां भी किसी घर में सावधान करने वाली सूचना नहीं लगी है।​​​​​​​

रांची में 1309 संक्रमित मिले, स्वास्थ्य विभाग, आईआरबी और हाईकोट तक पहुंचा संक्रमण

रांची में लगातार दूसरे दिन भी 1300 से ज्यादा संक्रमित मिले। बुधवार को जहां जिले में 1316 मामलों की पुष्टि हुई थी, वहीं गुरुवार को 1309 की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, गुरुवार को 10604 सैंपलों की जांच हुई। इनमें से 1309 संक्रमित के साथ पॉजिटिविटी रेट 12.34% रही। बताते चलें कि गुरुवार को मिले मरीजों में रिम्स के आधा दर्जन डॉक्टर और स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह भी शामिल हैं। सिंह ने मामूली सर्दी-खांसी के लक्षण दिखने पर अपनी जांच कराई, तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इधर, नगर आयुक्त मुकेश कुमार, मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी, रिम्स के मेडिसिन विभाग के एचओडी डॉ. विद्यापति भी संक्रमितों में शामिल हैं।

यहां मिले संक्रमित

विभाग संक्रमित

  • ग्रामीण विकास विभाग 08
  • आईआरबी धुर्वा 18
  • हाईकोर्ट, डोरंडा 08
  • चीफ जस्टिस रेसिडेंस 04
  • नेशनल हेल्थ मिशन 11
  • स्वास्थ्य विभाग 08

ये भी हैं पॉजिटिव

  • अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य विभाग।
  • नगर आयुक्त
  • मनरेगा आयुक्त
  • एचओडी, मेडिसिन विभाग, रिम्स।
  • सर्जन, सदर अस्पताल।​​​​​​​
खबरें और भी हैं...