पूजा बाजार:सोना-चांदी की बिक्री 25% बढ़ने का अनुमान, 10% बढ़ सकते हैं भाव

रांची15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पितृ पक्ष बीतते ही ज्वेलरी, ऑटोमोबाइल और गैजेट्स की बुकिंग बढ़ी

पितृ पक्ष के समाप्त होते ही शहर के ज्वेलरी, ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रिक की दुकानों में बुकिंग और इन्क्वायरी बढ़ गई है। बुधवार बाजार में इन ग्राहकों की संख्या अन्य दिनों से डेढ़ गुणा तक ज्यादा रही। ज्वेलरी कारोबारियों के अनुसार इस बार सोने-चांदी की बिक्री पिछले साल से 25 प्रतिशत ज्यादा रह सकती है।

विभिन्न तरह के ऑफर्स और पिछले साल कोरोना के प्रभाव के कारण जो लोग जेवरात नहीं खरीद पाए थे, वे इस साल खरीदारी करेंगे। इसी तरह गाड़ियों के लिए भी खरीदार काफी निकल रहे हैं। लेकिन, गाड़ियों की उपलब्धता कम रहने से लंबी वेटिंग है। गाड़ियों में भी ऑफर के साथ बैंकों की तरफ से कई सुविधाएं दी जा रही हैं। त्योहार के समय प्रत्येक शोरूम में गाड़ियों की 20 से 100 इन्क्वायरी प्रतिदिन आ रही है। इलेक्ट्रॉनिक सामान की बिक्री 15% तक बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है।

मालूम हो कि रांची में त्योहारी सीजन के दौरान एक महीने में करीब 180 किलो सोना और 250 किलो चांदी बिकते हंै। शहर के प्रमुख ज्वेलर प्रदीप कुमार ने बताया कि पिछले साल लोगों ने कोरोना के कारण कम खरीदारी की थी। इसलिए, इस साल बिक्री 25% तक बढ़ने का अनुमान है। त्योहारी सीजन में खूब डिमांड निकल सकती है। इस कारण जेवर के भाव भी 10% तक बढ़ सकते हैं। तनिष्क के एएसएम अमित सिंह ने बताया कि इस बार बाजार अच्छा रहेगा।

व्यापारियों ने कहा, ग्राहकों में उत्साह, बाजार गुलजार रहेगा

10 साल में पहली बार इतने ऑफर्स एक साथ चल रहे हैं : सुनीत सुनेजा

एलजी शॉपी के संचालक सुनीत सुनेजा ने बताया कि चुनिंदा डीलरों द्वारा ग्राहकों को ऑनलाइन से भी कम कीमत पर प्रोडक्ट्स उपलब्ध कराए जा रहे हैं। विभिन्न स्कीमों के जरिए ग्राहकों को लाभ मिल रहा है। 10 साल में पहली बार इतने ऑफर्स एक साथ चल रहे हैं। पिछले सप्ताह से 30 प्रतिशत तक बिक्री बढ़ी है। दीपावली के लिए भी खूब बुकिंग हो रही है।

गाड़ियों की डिमांड का 50 प्रतिशत भी उपलब्ध नहीं करा रही कंपनी

मारुति प्रेमसंस के जीएम राजीव सिन्हा ने बताया कि यदि गाड़ी उपलब्ध हो जाए, तो प्रेमसंस कांके का लक्ष्य अक्टूबर महीने में 1600 गाड़ियां बेचने का है। उन्होंने कहा कि सेमीकंडक्टर की कमी के कारण कंपनियां डिमांड की 50 प्रतिशत गाड़ी भी उपलब्ध नहीं करा पा रही हैं। लेकिन, प्रेमसंस में पहले से स्टॉक रहने के कारण ग्राहकों को गाड़ी मिल जा रही है।

खबरें और भी हैं...