पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:शुभ जून, 11 हजार लग रहे टीके, 50 से कम मिल रहे संक्रमित; मौत 1-2

रांची8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना मरीजों की जांच - Dainik Bhaskar
कोरोना मरीजों की जांच
  • रांची में इन दिनों रिकॉर्ड वैक्सीनेशन हो रहा है, शहर में संक्रमितों की संख्या में भी कमी आई है, हर दिन मौत का आंकड़ा घट रहा

रांची में वैक्सीनेशन प्रक्रिया को रफ्तार देने के लिए शहर से लेकर गांव तक इन दिनों विशेष अभियान चलाया जा रहा है। चार जून से कोविड-19 टीकाकरण गहन अभियान के तहत प्रत्येक सप्ताहांत (शुक्रवार, शनिवार और रविवार) को बिरसा मुंडा फुटबॉल स्टेडियम सहित अन्य प्रखंडों में विशेष कैंप लगाए जा रहे हैं। अभियान से पूर्व तक जहां पांच हजार तो कभी सात हजार लोगों को वैक्सीन दी जा रही थी।

इस अभियान के शुरू होने के बाद से हर दिन 11 हजार से अधिक लोगों को टीका लगाया गया। संक्रमण कम होने से स्टैटिक सेंटर में अब नाममात्र ही लोग पहुंच रहे हैं। सदर अस्पताल सहित चार अन्य स्टैटिक सेंटरों की पड़ताल में यह जानकारी मिली है। वहीं, मौत में भी कमी आई है। जुमार और घाघरा घाट पर संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार बंद हो गया। हरमू स्थित मोक्षधाम में रविवार को सिर्फ 2 संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार हुआ।

किस सेंटर में क्या रही कोरोना मरीजों की जांच की स्थिति

1. सदर अस्पताल- सदर अस्पताल में कोरोना जांच कराने के लिए लोगों की लंबी कतार लग रही थी। सैंपल देने के लिए लोग घंटों इंतजार करते थे। प्रतिदिन 250-300 सैंपल कलेक्ट हो रहे थे। मगर, कोरोना की दूसरी लहर कम होने से यहां सैंपल जांच कराने के लिए अब औसतन 80-85 लोग आते हैं।

2. जिला स्कूल- यहां हर दिन औसतन 100-150 लोग जांच कराने पहुंचते थे। लोग लाइन लगाकर सैंपल दें, इसके लिए मजिस्ट्रेट व पुलिस तैनात थी। अब सेंटर में हर दिन 10-15 लोग ही जांच कराने पहुंच रहे हैं।

3. सैनिक मार्केट- सैनिक मार्केट में भी कोरोना जांच कराने के लिए लोगों की लंबी कतार नजर आती थी। अब अधिकतर समय हेल्थ टीम को जांच कराने के लिए आने वालों का इंतजार करना पड़ता है। यहां भी 100 से अधिक लोगों की हर दिन जांच होती थी। अब कभी पांच तो कभी 15 लोग ही जांच कराने के लिए पहुंच रहे हैं।

भास्कर अपील- लक्षण हो तो जांच जरूर कराएं

कोरोना की दूसरी लहर कमजोर हुई है। स्वस्थ होने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। दूसरी लहर के दौरान जहां एक दिन में 1000 से लेकर 1700 मरीज एक दिन में मिल रहे थे। वहीं, बीते तीन दिनों से 50 से भी कम मरीज मिल रहे हैं। हालांकि, गांवों में जांच का दायरा बढ़ाने के लिए पंचायत स्तर पर सर्वे टीम गठित कर हर दिन 3000 से अधिक लोगों की जांच हो रही है। मगर, शहरी क्षेत्र में इन दिनों जांच कराने वालों की संख्या में कमी नजर आ रही है। सभी की जिम्मेदारी है कि अपने और अपने परिवार सहित अन्य लोगों की सुरक्षा के लिए जरूरी है कि किसी भी तरह का लक्षण हो तो जांच जरूर कराएं।

खबरें और भी हैं...