जिलेवार डीलर लाइसेंस लेने की बाध्यता से समस्या:कारोबारी गतिविधियों को रफ्तार देने के लिए नीतियों काे सरल करे सरकार : चैंबर

रांची8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • खनिज-उद्योग से जुड़े डीलरों को खनिजों के अनुसार जिलेवार लाइसेंस लेने का आदेश

फेडरेशन ऑफ झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने मुख्यमंत्री का ध्यान खनन एवं भूतत्व विभाग द्वारा जारी एक आदेश की ओर आकृष्ट किया है। चैंबर का कहना है कि सभी मिनरल डीलरों को खनिज वार और जिलेवार डीलर लाइसेंस लेने की बाध्यता से समस्याएं खड़ी हो रही हैं। लाइसेंसधारी डीलर को प्रत्येक लाइसेंस का मासिक रिटर्न दाखिल करने की भी बाध्यता है, नहीं तो जिला खनन पदाधिकारी द्वारा ऐसे डीलर की आईडी को ब्लॉक कर दिया जाएगा।

चैंबर अध्यक्ष धीरज तनेजा ने कहा है कि मिनरल डीलरों की समस्याओं के समाधान के लिए चैंबर द्वारा कई बार विभागीय सचिव से वार्ता का प्रयास किया गया, लेकिन विभाग द्वारा समय नहीं दिया जा रहा है। कोविड-19 से जूझ रहे व्यापार जगत को परेशानी हो रही है। धीरज तनेजा ने कहा है कि कारोबारी गतिविधियों को रफ्तार देने के लिए जटिल नीतियों का सरलीकरण करने के साथ ही न्यूनतम कागजी कार्रवाई की पहल करनी चाहिए।

15 दिसंबर 2020 को नए बिजली कनेक्शन के लिए दिया आवेदन, अब तक चालू नहीं : दूसरी ओर, चैंबर ऑफ कॉमर्स के पदाधिकारियाें ने कहा कि पावर हाउस चुटिया के एक व्यापारी ने अपने स्थापित किए जाने वाले प्रतिष्ठान के लिए 15 दिसंबर 2020 को नए बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन दिया था। जेबीवीएनएल के पोर्टल पर आवंटित उपभोक्ता नंबर प्रदर्शित होने और मीटर सील की जांच किए जाने के बावजूद चालू नहीं किया जा सका है।

उक्त व्यापारी ने शुक्रवार को चैंबर के पदाधिकारियों से मुलाकात कर इस मामले की शिकायत की और हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। चैंबर अध्यक्ष धीरज तनेजा और महासचिव राहुल मारू ने कहा कि सारी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद भी उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन के लिए परेशान करना न्याय संगत नहीं है।

खबरें और भी हैं...