रांची में पहली बार नौवीं के बच्चों को मिलेगी साइकिल:आठवीं से नौवीं में गए 10,410 बच्चों का किया गया चयन, कोरोना के कारण लिया गया फैसला

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य सरकार की नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना का मुख्य उद्देश्य ड्रॉपआउट को रोकना है। (प्रतिकात्मक फोटो) - Dainik Bhaskar
राज्य सरकार की नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना का मुख्य उद्देश्य ड्रॉपआउट को रोकना है। (प्रतिकात्मक फोटो)

झारखंड में पहली बार नौवीं के बच्चों को भी साइकिल दी जाएगी। इसके लिए रांची जिले के 10,410 बच्चों का चयन किया गया है। कोरोना के कारण पिछले साल साइकिल खरीदारी की राशि कल्याण विभाग की ओर से विद्यार्थियों के खाते में नहीं दी गई थी। ऐसे में आठवीं कक्षा से पास होकर 2021 में नौंवी कक्षा में जाने वाले विद्यार्थियों को भी राज्य सरकार साइकिल उपलब्ध कराएगी। यह पहली बार है जब नौवीं कक्षा के विद्यार्थियों को साइकिल दी जाएगी। नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना के तहत 10,410 स्टूडेंट्स को साइकिल मिलेगी। इसके तहत 5,827 छात्राओं और 4,583 छात्रों को साइकिल मिलेगी।

इस साल आठवीं के 30 हजार से ज्यादा बच्चों को साइकिल
वहीं इस बार रांची के सरकारी स्कूलों में आठवीं में पढ़ने वाले 30,493 विद्यार्थियों को साइकिल दी जाएगी। अनुसूचित जाति-जनजाति, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग की ओर से बच्चों को ये साइकिल दी जाएगी।

छात्रों से छात्राओं के हिस्से मिलेगी साइकिल
रांची में चयनित किए गए 30,493 विद्यार्थियों में 55 प्रतिशत साइकिल छात्राओं को मिलेगी। 16,736 छात्राओं को और 13,757 छात्रों को साइकिल मिलेगी। सबसे अधिक विद्यार्थी कांके प्रखंड के चयनित हुए हैं। यहां के 2,603 विद्यार्थियों को साइकिल मिलेगी। वहीं, दूसरे नंबर पर बेड़ो प्रखंड के 2,477 और अनगड़ा के 2,448 स्टूडेंट्स को साइकिल मिलेगी।

ड्रॉप आउट रोकना है योजना का उद्देश्य
राज्य सरकार की नि:शुल्क साइकिल वितरण योजना का मुख्य उद्देश्य ड्रॉपआउट को रोकना है। खासकर गरीबी रेखा से नीचे जीवन गुजारने वाले एससी-एसटी, पिछड़ी जाति और अल्पसंख्यक वर्ग के बच्चों को आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराना है। साधन की कमी से वे स्कूल जाना बंद न करें।