पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Health Minister I Believe There Is A Shortage, But The Vaccine Will Come In 3 Days, There Will Be 1000 Extra Beds In A Week; Report Will Be Received In Two Days

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर इंटरव्यू:कोरोना से बिगड़ने हालातों पर झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बोले- मानता हूं कमी रह गई, पर वैक्सीन 3 दिन में आएगी, 7 दिन में 1000 अतिरिक्त बेड होंगे

रांची14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य मंत्री से सवाल रिम्स में बेड नहीं हैं, कोवैक्सीन का स्टॉक खत्म है, टेस्ट रिपोर्ट 6-6 दिन में मिल रही है, क्या हम कोरोना का सही आकलन नहीं कर पाए?

झारखंड में कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू हो रही है। सरकारी अस्पतालों में बेड आदि संसाधन कम पड़ने लगे हैं, जिसका फायदा उठाकर बाजार में मुनाफावसूली बढ़ गई है। सैनिटाइजर, मास्क आदि के दाम बढ़ा दिए गए हैं। निजी अस्पताल कोरोना मरीजों से मनमाने पैसे वसूल रहे हैं। ऐसे हालात में हमने भास्कर मंच पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता से पूछा कि स्थिति कैसे काबू में लाएंगे। सरकार का एक्शन प्लान क्या है। उन्होंने क्या कहा, आइए जानते हैं...

भास्कर- बड़ी जद्दोजहद के बाद वैक्सीनेशन ने तेजी पकड़ी ही थी कि सरकारी स्टॉक में कोवैक्सीन खत्म हो गई। यह गंभीर चूक कैसे हुई?
मंत्री- मानता हूं, आंकलन और समीक्षा में चूक हुई है। लेकिन, इसका असल जिम्मेदार केंद्र है। केंद्र का फोकस झारखंड पर है ही नहीं। दिल्ली-महाराष्ट्र में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है, जिस कारण वहां वैक्सीन की डिमांड बढ़ गई है और सप्लाई का रुख उस ओर मोड़ दिया गया है। इस कारण कमी हुई है। तीन दिनों में वैक्सीन आ जाएगी। झारखंड गरीब ट्राइबल स्टेट है। प्रधानमंत्री की नजर इस ओर कभी-कभी ही पड़ती है। भारत सरकार वीडियो कांफ्रेंसिंग कर ज्यादातर दिशा-निर्देश की घुट्टी ही पिलाती रही है।

भास्कर- पहले सरकारी अस्पतालों में तीन दिन में और निजी अस्पतालों में 6 घंटों में कोरोना रिपोर्ट आ जाती थी, अब सरकारी अस्पतालों में 6 से 7 दिन और निजी अस्पतालों में तीन दिन का समय लग रहा है?
मंत्री-मैंने आकलन कराया तो पाया कि किसी लैब पर लोड अधिक है तो किसी लैब में कम सैंपल पहुंच रहे हैं। इसलिए कैपिसिटी के हिसाब से सभी लैब्स में सैंपल्स बढ़ाए जाएंगे। निजी लैब की मदद भी ली जाएगी ताकि रिपोर्ट दो दिनों में मिलने लगे।

भास्कर- रिम्स में नो बेड का बोर्ड लगाना पड़ गया है। क्या हम कोरोना संकट को भांप नहीं पाए?
मंत्री-: रिम्स सहित निजी अस्पतालों में बेड बढाए जा रहे हैं। एक सप्ताह में 1000 बेड तैयार हो जाएंगे। सरकारी स्कूल सहित अन्य भवनों व संस्थाओं में बेड की व्यवस्था की जाएगी।

भास्कर- बाजार में सेनेटाइजर, मास्क और कोरोना से संबंधित दवाओं की कीमतें अचानक बढ़ा दी गई हैं? कई निजी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों से तय से काफी अधिक रेट लिए जा रहे हैं?
मंत्री- दवा दुकानदारों और फार्मासिस्टों के लिए अधिक पैसा कमाने का चरागाह नहीं बनने देंगे। कालाबाजारी पकड़े जाने पर फार्मासिस्ट व ड्रग इंस्पेक्टर को जेल भेजेंगे। निजी अस्पताल आपदा के वक्त मुनाफावसूली की तो लाइसेंस रद्द करेंगे। हाल में जमशेदपुर में मेडिट्रिना अस्पताल पर कार्रवाई की है।

भास्कर : क्या हम लाॅक डाउन की ओर बढ़ रहे हैं?
मंत्री: मंगलवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक होने जा रही है। इसमें वित्त मंत्री, मैं खुद, मुख्य सचिव, गृह सचिव, स्वास्थ्य सचिव रहेंगे। फिलहाल कम्प्लीट लॉकडाउन नहीं होगा, लेकिन जनहित में कड़े फैसले जरूर लिए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें