पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Hey Mother Destroy The Demon Like Corona And Lead Us From Darkness To Light, Durga Puja Is On The Bright Side Of Ashwin Month.

महालया आज...:हे मां! कोरोना रूपी असुर का संहार कर हमें अंधेरे से उजाले की ओर ले चलो, दुर्गापूजा अश्विन माह के शुक्ल पक्ष में होती है

रांची10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो
  • इस बार दो अश्विन माह हैं। इसमें 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक अधिक मास
  • 21, 30 सितंबर, 1, 5 व 16 अक्टूबर छोड़कर बाकी सारे दिन शुभ

पितृ पक्ष के अंतिम दिन महालया अमावस्या से मां दुर्गा का धरती पर आगमन हो रहा है। अमावस्या की काली रात को मां दुर्गा का आह्वान कर आशीर्वाद मांगा जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन मां धरती पर आकर अपने बच्चों पर आशीष भरा हाथ रख असुर शक्तियों से उनकी रक्षा करती हैं। अभी जगत में कोरोना रूपी अंधकार फैला हुआ है। हे मां! इस बार आप धरती पर आ रही हैं तो काेराेना रूपी असुर का संहार कर सभी का कल्याण करें।

इस बार दो अश्विन माह... इसलिए 17 अक्टूबर से नवरात्र, इसी दिन होगी कलश स्थापना

  • बांग्ला मान्यता के अनुसार महालया के दिन मां की मूर्ति बनाने वाले मूर्तिकार मां दुर्गा की आंखें बनाते हैं, जिसे चक्षुदान भी कहते हैं। इसका मतलब है आंखें प्रदान करना।
  • महालया के अगले दिन से नवरात्र शुरू हो जाता है। इस साल महालया के 1 माह बाद यानी 17 अक्टूबर से दुर्गापूजा की शुरुआत होगी। इसी दिन कलश स्थापना की जाएगी।
  • दुर्गापूजा अश्विन माह के शुक्ल पक्ष में होती है। इस बार दो अश्विन माह हैं। इसमें 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक अधिक मास, 17 से 31 अक्टूबर तक शुद्ध आश्विन माह।

18 सितंबर से अधिक मास शुरू हो रहा है। अधिक मास के बारे में शास्त्रों ने कहा है “अधिकस्य अधिक फलम्” अर्थात अधिक मास में शुभ कर्मों का फल भी अधिक मिलता है। मांगलिक (विवाह, गृह प्रवेश आदि) कार्यों के अलावा किसी भी अन्य कार्य के लिए अधिक मास में मनाही नहीं है। पूरे महीने में 25 दिन खरीदारी के लिए शुभ हैं। इनमें से 15 दिन तो काफी महत्वपूर्ण हैं। अधिक मास में संपत्ति में भी निवेश किया जा सकता है। ज्योतिर्विद आर.एल. त्रिवेदी के मुताबिक 21, 30 सितंबर, 1, 5 और 16 अक्टूबर को छोड़ कर शेष सारे दिन शुभ ही रहेंगे। इन दिनों में भगवान की भक्ति और धार्मिक अनुष्ठान का पूर्ण फल तो मिलेगा ही, साथ ही खरीदारी आदि के लिए भी दिन बहुत शुभ रहेंगे। ज्योतिषाचार्य श्रीकृष्ण के मुताबिक किसी भी तरह की खरीदारी के लिए कोई मनाही नहीं है। अधिक मास में सबकुछ खरीदा जा सकता है। केवल स्थायी सम्पत्ति खरीदते या बुक करते समय कागजी कार्यवाही और कानूनी चीजों का ध्यान रखना चाहिए। ज्वेलरी, वाहन से लेकर कपड़े आदि सभी खरीदे जा सकते हैं।

किस दिन क्या खरीद सकते हैं...कब कर सकते हैं यज्ञ, हवन और जाप

  • वाहन खरीदारी के मुहूर्त- सितंबर में 19, 20, 27, 28, 29, अक्टूबर में 4, 10 व 11 तारीख को वाहन खरीदे या बुकिंग कराई जा सकती है।
  • ज्वेलरी की खरीदारी के मुहूर्त- सितंबर में 18, 19, 22 व 26, अक्टूबर में 2, 3, 7, 8 और 15 तारीख को ज्वेलरी खरीदी जा सकती है।
  • नए कपड़े आदि खरीदने के मुहूर्त- सितंबर में 18, 22 और 26 तारीख, अक्टूबर में 2, 7, 8 और 15 तारीख को नए वस्त्र और शृंगार की सामग्री आदि खरीदे जा सकते हैं।
  • सगाई आदि के शुभ मुहूर्त- सितंबर में 18, 26 तारीख और अक्टूबर में 7, 15 तारीख को रोका, सगाई आदि किए जा सकते हैं।
  • व्यापारिक सौदों के लिए मुहूर्त- 19 व 27 सितंबर को द्विपुष्कर योग के कारण बड़े व्यापारिक सौदों के लिए दिन काफी लाभप्रद रहेगा। 21 सितंबर व 6 अक्टूबर भी शुभ है।
  • यज्ञ, हवन आदि के लिए शुभ दिन- 26 सितंबर एवं 1, 4, 6, 7, 9, 11, 17 अक्टूबर को यज्ञ, हवन, जाप अनुष्ठान आदि किए जा सकते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें