महिलाएं मान जाती हैं::महिलाओं को कमान दी, तो 6 माह में 64 लाख रु. जलकर वसूली

रांची7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

महावीर आजीविका समूह की अध्यक्ष सारिका सोनी कहती हैं अब तक साढ़े 3 लाख रुपए वसूल किए हैं। छह माह पहले तक पंचायत में जलकर करीब 8 लाख रुपए बकाया था। पहले दिक्कतें आई, लोग पहचानते नहीं थे तो पंचायत में फोन लगाकर पूछते थे। अब कर जमा करने में रुचि ले रहे हैं।

वे कहती हैं, कि वसूली करने जाते हैं, तो पहले महत्व बताते हैं, जल नहीं मिलने पर होने वाली परेशानी गिनाते हैं, तो घर की महिलाएं खुद ही जलकर देने के लिए तैयार हो जाती हैं। कई महिलाएं तो पति से पैसे अलग से लेकर रखती हैं। पंचायत के सचिव धनवान सिंह रघुवंशी बताते हैं पंचायत में नलजल के 875 कनेक्शन हैं। पहले जल कर की वसूली पंप संचालक व स्टाफ करता था, पर ज्यादा सफलता नहीं मिलती थी। पहली बार जलकर की इतनी वसूली हुई है। भैंसदेही ब्लॉक में 46 में से 21 नल जल योजनाएं स्व समूहों को दी गई हैं। 7.14 लाख रुपए वसूली की गई है। समूह सदस्यों को 71 हजार रुपए की आय 40 सदस्यों को हुई है। नवापुर में 1.54 लाख रुपए की वसूली हुई है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के डीपीएम सतीश पवार बताते हैं, कर की वसूली व संचालन महिला समूह के लिए नया अनुभव है। उन्हें इसके लिए प्रशिक्षण दिया गया है। इससे उनकी आजीविका में भी बढ़ोतरी हो रही है। पीएचई के कार्यपालन यंत्री रंजन सिंह ठाकुर बताते हैं कि जिले में 568 नल जल याेजनाएं हैं। ग्राम पंचायत में पहली बार महिलाओं को ये जिम्मेदारी दी गई है। ज्यादातर पंचायतें में जलकर की वसूली हाेने से संचालन में आसानी हो गई है।

खबरें और भी हैं...