नगर निगम की चेतावनी:आज काम पर नहीं भेजा ट्रैक्टर तो हटा दिया जाएगा, पर ट्रैक्टर मालिक कूड़ा नहीं उठाने पर अड़े

रांचीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में ऐसे ही फैला हुआ है कचरा। - Dainik Bhaskar
शहर में ऐसे ही फैला हुआ है कचरा।
  • हड़ताल... 6 ट्रैक्टरों को काम से हटाने से बौखलाए मालिकों ने ठप किया काम, 500 मीट्रिक टन कूड़ा नहीं उठा

शहर की सफाई में तेल का खेल जमकर चल रहा है। जब मेयर आशा लकड़ा ने इस गड़बड़ी को दूर करने की सख्त हिदायत दी, तो नगर निगम के अफसरों की नींद खुली। आनन-फानन में झिरी स्थित कूड़ा डंपिंग यार्ड में कूड़ा लेकर जा रहे ट्रैक्टरों की जांच की गई। वजन कराया गया, तो निर्धारित मापदंड से काफी कम कूड़ा पाया गया। इसके बाद निगम ने छह ट्रैक्टरों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। इससे बौखलाए ट्रैक्टर मालिकों ने मंगलवार को अचानक हड़ताल कर दी। एक भी ट्रैक्टर काम पर नहीं आया। इस वजह से शहर के 53 वार्डों में कूड़े का उठाव नहीं हुआ।

ट्रैक्टर मालिकों और चालकों की हड़ताल की सूचना मिलने के बाद उप नगर आयुक्त ने उन्हें 8 जुलाई तक काम पर लौटने का निर्देश दिया है। अगर बुधवार को ट्रैक्टर मालिक अपने वाहन काम पर नहीं भेजते हैं, तो सभी ट्रैक्टर को हमेशा के लिए हटाने की चेतावनी दी गई है। मालूम हो कि रोजाना 150 ट्रैक्टर शहर से कूड़े का उठाव करते हैं। ऐसे में ट्रैक्टर नहीं आने से पूरे शहर में करीब 500 मीट्रिक टन कूड़ा का उठाव नहीं हुअा। जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे रहे और आवारा जानवर उसे फैलाते रहे। हालांकि निगम के छोटे वाहनों से कुछ क्षेत्रों में घरों से कूड़ा का उठाव किया गया।  

ट्रैक्टर नहीं देने वालों का वाहन आगे भी नहीं लेगा निगम

उप नगर आयुक्त ने बाकायदा एक सूचना जारी करते हुए ट्रैक्टर मालिकों को स्पष्ट शब्दों में कहा है कि 8 जुलाई तक जो भी ट्रैक्टर मालिक या ड्राइवर सफाई कार्य के लिए नगर निगम में अपना वाहन नहीं देंगे, उन्हें काम से हटा दिया जाएगा। साथ ही भविष्य में उनके ट्रैक्टर को कभी नहीं लिया जाएगा। वर्तमान में कोरोना महामारी फैली हुई है और सफाई कार्य आपातकालीन सेवा के अंतर्गत आता है। अचानक से सफाई कार्य या कूड़े के परिवहन को बंद नहीं किया जा सकता। कोई बंद करते हैं या इस कार्य में शामिल ट्रैक्टर और ड्राइवर को जाने से रोकते हैं, तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

ट्रैक्टर में कूड़ा कम लादने पर छिड़ा विवाद

नगर निगम ने प्रत्येक ट्रैक्टर पर 800 किलो से अधिक कूड़ा रखना अनिवार्य कर दिया है। लेकिन ट्रैक्टर मालिकों ने कूड़ा हल्का होने का हवाला देते हुए वजन में छूट देने की मांग की है। कहा कि कागज, पॉलिथीन, पत्ता होने की वजह से ट्रैक्टर थोड़े कूड़े से ही भर जाता है, पर वजन नहीं बढ़ता। ऐसे में 800 किलो कूड़ा दिखाना संभव नहीं है।

खबरें और भी हैं...