पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • In Jharkhand, On An Average, Seven People Committed Suicide Every Day, 32% In Unemployment And About 25% In Family Feud.

कोरोना बन रहा काल:झारखंड में हर महीने 200 लोग कर रहे आत्महत्या, इसमें बेरोजगारी के कारण खुदकुशी करने वाले 32 प्रतिशत

रांची8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने 2 सितंबर को आत्महत्या पर रिपोर्ट जारी की
  • कोरोना काल के चार महीने से दैनिक भास्कर ने जब इसकी तुलना की तो चौंकाने के साथ आंकड़े डराने वाले भी निकले

झारखंड में कोरोना से मौत का आंकड़ा 630 पहुंंच गया है। संक्रमितों की संख्या 65 हजार के पास पहुंच गई है। जैसे-जैसे संक्रमण और मौतें बढ़ती जा रही हैं, वैसे-वैसे कोरोना का खौफ भी लोगों में बढ़ता जा रहा है। इसका नतीजा है कि कोरोनाकाल के चार महीने में आत्महत्या चरम पर पहुंच चुकी है।

पिछले अप्रैल, मई, जून और जुलाई में झारखंड में 788 लोगों ने आत्महत्या कर ली है। मार्च में कोरोना ने दायरा बढ़ाना शुरू किया तो लॉकडाउन में इससे सिर्फ सात मौत ही हुई थी, पर इस दौरान 387 लागों ने आत्महत्या कर ली।

आंकड़े
आंकड़े

वहीं, जून और जुलाई में अनलॉक में थोड़ी छूट मिली, पर तब तक लॉकडाउन के अवसाद ने पारिवारिक कलह, डिप्रेशन, आर्थिक तंगी इतनी बढ़ा दी कि इस दो महीने में लगभग 401 लोगों ने आत्महत्या कर ली। एनसीआरबी के हालिया आंकड़ों के अनुसार झारखंड में 2019 में 1646 लोगों ने आत्महत्या की, जबकि 2018 में 1317 लोगों ने आत्महत्या की थी। 2019 में जहां एक माह में राज्य में 137 लोग आत्महत्या कर रहे थे, वहीं कोरोना के 4 माह में हर माह 197 लोग जान दे रहे हैं। यानी लगभग डेढ़ गुना आत्महत्या करने वाले बढ़ गए। 2019 में 16% लोग आर्थिक तंगी से आत्महत्या कर रहे थे, अभी इसके कारण दोगुना लोग जान दे रहे हैं।

राज्य में औसत आत्महत्या दर 4.4, अब बढ़कर हुई 7 फीसदी

कोरोनाकाल में बढ़ती आत्महत्या ने झारखंड के आंकड़े डरावने बना दिए हैं। एनसीआरबी के हालिया रिकॉर्ड 2019 के अनुसार झारखंड में जहां औसत आत्महत्या 4.4 है, वहीं इन चार माह में हर दिन औसतन सात लोग जान दे रहे हैं। आत्महत्या का राष्ट्रीय औसत एक लाख आबादी पर 10.4 है। 2019 में झारखंड में 1646 लोगों ने आत्महत्या की। यह 2018 के मुकाबले 20% ज्यादा है।

कलह...धनबाद+जमशेदपुर+रांची=291 आत्महत्या

उम्र...25 साल तक के युवाओं ने सबसे ज्यादा की आत्महत्या
उम्र...25 साल तक के युवाओं ने सबसे ज्यादा की आत्महत्या

चार महीने में 113 आत्महत्या धनबाद में हुई। जमशेदपुर में 97 और रांची में 81 लोगों ने आत्महत्या कर ली। इन तीनों शहरों को मिलाकर लॉकडाउन में 100 और अनलॉक में 191 लोगों ने अपनी जान दे दी।

धनबाद में सबसे ज्यादा 49% ने तंगी में दी जान
दैनिक भास्कर की पड़ताल में आत्महत्या की सबसे बड़ी वजह कोरोनाकाल में आर्थिक परेशानी निकली। धनबाद में 49 फीसदी, जमशेदपुर में 25.42 फीसदी और रांची में लगभग 10 फीसदी आत्महत्या का कारण आर्थिक तंगी रही। जबकि रांची में 40 फीसदी, जमशेदपुर में 16.94 फीसदी और धनबाद में 19 फीसदी आत्महत्या की वजह पारिवारिक कलह रही। लॉकडाउन में तनाव-डिप्रेशन ने जमशेदपुर में 23.42 फीसदी, रांची में 19 फीसदी और धनबाद में लगभग 10 फीसदी लोगों की जान ले ली।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप भावनात्मक रूप से सशक्त रहेंगे। ज्ञानवर्धक तथा रोचक कार्यों में समय व्यतीत होगा। परिवार के साथ धार्मिक स्थल पर जाने का भी प्रोग्राम बनेगा। आप अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक रूप से परिवर्तन भ...

और पढ़ें