पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

काेराेना की चेन तोड़न है:झारखंड में संक्रमण दर 14.78 से घटकर 7.72% पर पहुंची; यह मई में सबसे कम

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मई के छह दिनों कैसी है कोरोना की रफ्तार - Dainik Bhaskar
मई के छह दिनों कैसी है कोरोना की रफ्तार
  • विशेषज्ञ बाेले- दाे हफ्ते अहम, लाॅकडाउन से ही टूटेगी काेराेना की चेन
  • कोरोना संक्रमण दर घटने में लॉकडाउन बड़ी वजह

झारखंड में काेराेना संक्रमण से हालात विकट हाे गए हैं। हर दिन 100 से ज्यादा लाेगाें की जान जा रही है। विशेषज्ञाें का मानना है कि अभी दूसरी लहर का पीक आना बाकी है। इसी बीच थाेड़ी राहत भी मिली है। संक्रमण दर में लगातार गिरावट आ रही है। गुरुवार काे राज्य में मास काेराेना टेस्टिंग ड्राइव चलाया गया। इसमें 90,299 सैंपलाें की जांच की गई।

इस दाैरान संक्रमण दर 7.72 प्रतिशत दर्ज की गई, जाे मई महीने में सबसे कम है। इससे पहले बुधवार काे संक्रमण दर 14.97 प्रतिशत थी। ऐसे में विशेषज्ञाें का मानना है कि लाॅकडाउन की वजह से ही इसमें गिरावट आई है। लाॅकडाउन का सख्ती से पालन करने से ही काेराेना की चेन टूट सकती है। इसलिए अगले दाे हफ्ते ज्यादा अहम हाेंगे।

कई जिलों में संक्रमण की स्थिति अब भी गंभीर

राज्य में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की शुरुआत रांची, जमशेदपुर से हुई थी। लेकिन अब केवल रांची, बोकारो, धनबाद में स्थिति थोड़ी नियंत्रित है। इन जिलों में पहले की तुलना में मरीज थोड़े कम जरूर हुए हैं, लेकिन झारखंड के कई जिलों में अब ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। संथाल परगना के जिलों में संक्रमण की रफ्तार बढ़ी है। जमशेदपुर, हजारीबाग और देवघर में नए केस ज्यादा आ रहे हैं।

झारखंड में 5973 नए मरीज मिले ताे 5293 ठीक भी हुए

प्रदेश में शुक्रवार काे फिर 5973 काेराेना संक्रमित मिले जबकि 5393 मरीज स्वस्थ हुए। 136 लाेगाें की माैत भी हुई। लेकिन रांची के लिए राहत भरी खबर है। यहां सबसे ज्यादा 970 मरीज मिले ताे इससे ज्यादा 987 लाेग काेराेना से ठीक भी हुए। इसी तरह पूर्वी सिंहभूम में 968 मरीज मिले और 890 स्वस्थ हुए। वहीं बाेकाराे में 344 संक्रमित ठीक हाेकर घर लाैटे ताे 745 नए मरीज भी मिले। उधर, काेराेना से मरने वालाें में सबसे ज्यादा 38 लाेग रांची के हैं। जबकि पूर्वी सिंहभूम में 26 और गिरिडीह में 10 लाेगाें की जान गई।

खबरें और भी हैं...