• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • In Ranchi, Villagers Demolished The Boundary Of Eklavya Vidyalaya Under Construction, Also Set Fire To It; Said These Martyrs' Memorial Site Will Not Allow Schools To Be Built

रांची में विद्यालय पर बवाल:ग्रामीणों ने एकलव्य विद्यालय की निर्माणाधीन बाउंड्री गिराई, आगजनी भी की; कहा-ये शहीदों का स्मारक स्थल, स्कूल नहीं बनने देंगे

रांची7 महीने पहले
ग्रामीणों ने विद्यालय के निर्माणाधीन स्थल पर जमकर उत्पात मचाया। इन्हें न पुलिस का खौफ था और न प्रशासन का।

रांची के चान्हो में ग्रामीणों ने सोमवार को जमकर उत्पात मचाया। विभिन्न आदिवासी संगठनों के लोगों ने पहले हाथों सरना झंडा थाम मोटरसाइकिल जुलूस निकाला। ये मांडर से बीजुपाड़ा, चान्हो प्रखंड़ मुख्यालय होते हुए सिलागांई पहुंचे।

बाउंड्री को तोड़ने में हर उम्र के लोग शामिल थे।
बाउंड्री को तोड़ने में हर उम्र के लोग शामिल थे।

यहां इन्होंने अमर शहीद वीर बुधु भगत के स्मारक स्थल के पास निर्माणाधीन एकलव्य विद्यालय की बाउंड्री को गिरा दी।निर्माण स्थल पर मौजूद तीन मिक्सचर मशीन को आग के हवाले कर दिया। साथ ही पानी के टैंकर को उलट दिया।

आदिवासी संगठन अमर शहीद वीर बुधु भगत के स्मारक स्थल पर विद्यालय निर्माण का विरोध कर रहे हैं। उनकाकहना कि इस स्थान से शहीद वीर बुधु भगत की आस्था जुड़ी है। सरकार जहां चाहे स्कूल का निर्माण करा ले। यहां स्कूल का निर्माण नहीं होने देंगे।

ग्रामीणों ने तीन मिक्सचर मशीन को आग के हवाले कर दिया
ग्रामीणों ने तीन मिक्सचर मशीन को आग के हवाले कर दिया

पहले ही कर चुके हैं दूसरी जगह निर्माण करने का ऐलान
ग्रामीण पहले ही इस बात का ऐलान कर चुके हैं कि यहां किसी भी हाल में विद्यालय नहीं बनने देंगे। उनका कहना है कि चान्हो में कई स्थानों पर गैर मजरुआ जमीन है उन स्थानों में से किसी एक जगह इसका निर्माण कराया जाए। इस स्थान से आदिवासियों की आस्था जुड़ी हुई है। हमें विद्यालय के निर्माण से कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन सरकार इसके लिए दूसरी जगह चुने।

नाराज ग्रामीणों ने पहले सरना झंडा लेकर जुलूस निकाला।
नाराज ग्रामीणों ने पहले सरना झंडा लेकर जुलूस निकाला।

दो महीने पहले 12 घंटे तक हाई-वे जाम कर दिए थे
विद्यालय के निर्माण के विरोध में दो महीने पहले विभिन्न आदिवासी संगठनों ने चक्का जाम कर दिया था। ये NH-75 रांची-डालटनगंज मार्ग पर दिन के करीब 12 बजे से रात के 12 बजे तक धरने पर बैठ गए थे। प्रशासन के आग्रह और आश्वासन के बाद उन्होंने हाई-वे को खाली किया था।

अर्जुन मुंडा का दर्द- स्कूल खोलने में सरकार नहीं कर रही मदद

केंद्रीय जनजातीय मंत्री अर्जुन मुंडा पहले ही इस पर अपना दर्द जता चुके हैं। उन्होंने कहा था कि दूसरे प्रदेशों में इसपर तेजी से काम हो रहा है, लेकिन झारखंड सरकार का सहयोग इसमें नहीं मिल रहा है। झारखंड में एकलव्य स्कूल खोलने के राह में रोड़े अटकाये जा रहे हैं। जब स्कूल खोलने की तैयारी शुरू हो रही तो जमीन को लेकर पेंच फंस जा रहा है। लोग कहते हैं यहां स्कूल मत बनाइये कहीं और ले जाइये। उन्होंने ये बातें 23 अक्टूबर को BJP की कार्यकारिणी समित की बैठक में कही थी।

पुलिस का जवाब घटना हुई है, क्यो ंका पता नहीं

दैनिक भास्कर डिजिटल ने घटना के बाद चान्हो थाना प्रभारी से संपर्क किया। उनसे घटना के बारे में सवाल किए । पहले वे कुछ भी बताने से बचते रहे। जब बार-बार सवाल किया गया तब उन्होंने ये तो स्वीकर किया कि ये घटना हुई है। लेकिन क्यों हुई है? इसका उनके पास कोई जवाब नहीं था।