'10 करोड़ और मंत्री पद का था ऑफर':कांग्रेस विधायक अनूप सिंह का दावा, झारखंड सरकार गिराने की थी साजिश

रांची4 महीने पहले

कोलकाता के हावड़ा में शनिवार रात झारखंड के तीन कांग्रेस विधायकों इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी की गाड़ी से पुलिस ने 48 लाख रुपए कैश बरामद किए थे। गाड़ी में ये तीनों विधायक भी सवार थे।

इस बारे में रविवार को झारखंड के बेरमो से कांग्रेस के विधायक अनूप सिंह ने बड़ा दावा किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायकों को झारखंड की मौजूदा सरकार गिराने के बदले 10 करोड़ रुपए और नई सरकार में मंत्री पद का ऑफर दिया गया था।

यह ऑफर असम के CM हिमंत बिस्वा सरमा के कहने पर दिया जा रहा है, जो बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व के कहने पर यह सब कर रहे हैं।

दावा- अंसारी ने दिया ऑफर
सिंह ने रविवार को बताया कि यह ऑफर पार्टी विधायक इरफान अंसारी ने दिया था। तीनों विधायक इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी ने फोन करके मुझे कोलकाता आने को कहा था। तीनों ने आश्वासन दिया था कि वह उन्हें गुवाहाटी ले जाएंगे, जहां उनकी मुलाकात असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा से कराई जाएगी।

उनके समक्ष मुझे आश्वासन देना है कि मैं उनके साथ हूं। इसके एवज में अंसारी ने मुझे 10 करोड़ रुपए के अलावा नई सरकार में मंत्री पद का ऑफर भी किया। सिंह ने रांची के अरगोड़ा थाने में इसे लेकर शिकायत दर्ज कराई है।

विधायक अनूप सिंह की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई।
विधायक अनूप सिंह की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई।

कोलकाता आने का दबाव डाल रहे थे
अनूप सिंह ने कहा,तीनों कांग्रेसी विधायक उन पर कोलकाता आने का दबाव डाल रहे हैं लेकिन वह इस आपराधिक कृत्य का हिस्सा नहीं बनना चाहते। इसलिए उन्होंने उन तीनों विधायकों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। वर्तमान में झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार बहुमत के साथ चल रही है। इस सरकार को वे गिराने की मंशा रख रहे हैं।

आवेदन में उन्होंने लिखा है, 'इरफान अंसारी को पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय दिए जाने का आश्वासन दिया जा चुका है। ऐसा अंसारी ने दावा भी किया है।

कांग्रेस ने तीनों को किया सस्पेंड
दरअसल बीती रात हावड़ा के ग्रामीण इलाके में वहां के पुलिस ने झारखंड के 3 कांग्रेसी विधायकों को नोटों के बंडल के साथ हिरासत में लिया है। उसके बाद देर रात तक उनसे पूछताछ की गई, लेकिन वह उन पैसों का विवरण स्पष्ट रूप से नहीं दे पाए। झारखंड में कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट कर दिया कि तीनों को इस मामले में सस्पेंड कर गया है।

बता दें कि इससे पहले भी अनूप सिंह ने राजधानी के कोतवाली थाना में पिछले साल एक शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें विधायकों की खरीद-फरोख्त का भी आरोप लगाया गया था।

पता नहीं कांग्रेस को क्या हो गया है- सरमा
उधर, झारखंड के विधायक कुमार जयमंगल सिंह के आरोपों पर CM हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि कांग्रेस के बड़े से बड़े नेता मेरे संपर्क में हैं। राजनीति की बात नहीं है लेकिन जब एक व्यक्ति 22 साल एक पार्टी में रहता है तो संपर्क तो बनते ही हैं। इसके लिए FIR दर्ज़ करना, पता नहीं कांग्रेस को क्या हो गया है?

खबरें और भी हैं...