• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Jharkhand Also Tops In The Evaluation Of New Pattern Of Smart City, Ranchi Ranks 10th In The List Of Cities With 68.2% Marks

100 स्मार्ट शहरों की रैंकिंग के लिए नया पैटर्न लागू:स्मार्ट सिटी के नए पैटर्न के मूल्यांकन में भी झारखंड टॉप पर, शहरों की सूची में 68.2% अंकों के साथ रांची को 10वां स्थान

रांची4 महीने पहलेलेखक: संतोष चौधरी
  • कॉपी लिंक
  • ग्रांट और बिना ग्रांट के कार्य करने, फंड ट्रांसफर और खर्च करने, वर्कऑर्डर जारी करने के आधार पर हुई रैंकिंग

केंद्रीय शहरी विकास एवं आवास मंत्रालय की ओर से देशभर के 100 स्मार्ट शहरों की रैंकिंग के लिए नया पैटर्न लागू किया गया है। अब केंद्र सरकार द्वारा दिए गए ग्रांट, जारी वर्कऑर्डर और धरातल पर हुए काम सहित सात पारामीटर्स के आधार पर रैंकिंग जारी की जा रही है। नए पैटर्न पर जारी ताजा रैंकिंग में भी झारखंड देशभर में टॉप पर है।

पिछले माह राजस्थान ने झारखंड को पछाड़ते हुए पहला स्थान हासिल कर लिया था, लेकिन काम की रफ्तार बढ़ा कर दुबारा झारखंड पहले स्थान पर पहुंच गया है। जबकि, देशभर के 100 स्मार्ट शहरों की सूची में रांची 10 वें स्थान पर है। पहले स्थान पर मध्यप्रदेश का भोपाल है।

रांची को स्मार्ट सिटी में हुए कार्यों के आधार पर कुल 68.20 प्रतिशत अंक मिले हैं। वहीं भोपाल 111.40 अंक के साथ पहले स्थान पर है। अगले कुछ माह तक रांची की रैंकिंग इसी आसपास रहेगी, क्योंकि धुर्वा में बन रहे स्मार्ट सिटी के एकीकृत आधारभूत संरचना ( इंट्रीग्रेटेड इंफ्रास्ट्रक्चर) का काम अब एक साथ पूरा होगा। पिछले सप्ताह तक रांची 16 वें स्थान पर था, लेकिन फंड खर्च करने में तेजी लाकर रांची ने रैंकिंग में सुधार कर लिया।

जमीन की नीलामी कर बढ़ाया रेवेन्यू : स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन ने जमीन की नीलामी कर राजस्व जुटाने का रास्ता निकाल लिया है, वहीं दूसरी ओर अन्य योजनाओं पर पैसे खर्च कर रहा है। रांची में पहले चरण की जमीन नीलामी कर ही 400 करोड़ रुपए से अधिक का राजस्व लाने का रास्ता खोज लिया। पहले फेज में ही आवासीय और मिक्स्ड यूज की जमीन की नीलामी होने से यहां निवेशकों का भरोसा बढ़ा। इस वजह से याेजना के कार्यान्वयन (प्रोजेक्ट इंप्लिमेंटेशन कैटेगरी) में रांची को बेहतर अंक मिला।

काम की रफ्तार बढ़ने और जमीन की नीलामी कर सुधारी रैंकिंग
रांची स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन ने 18 प्रोजेक्ट में से 12 का वर्कऑर्डर जारी कर दिया है। 8 का टेंडर एक साथ किया गया है। स्मार्ट सिटी के 656 एकड़ क्षेत्र में 4 कैटेगरी की सड़क, फुटपाथ-साइकिल ट्रैक, सीवरेज-ड्रेनेज, अंडरग्राउंड वाटर सप्लाई पाइपलाइन, अंडरग्राउंड केबुल का काम शामिल है। इसके अलावा गैस आधारित विद्युत ग्रिड का काम अंतिम चरण में है। बेसिक इंट्रीग्रेटेड इंफ्रास्ट्रक्चर का करीब 70 प्रतिशत काम पूरा हो गया है। इसलिए रांची की रैंकिंग में सुधार हुआ है।

टॉप टेन शहर

रैंक शहर

  • 1 भोपाल
  • 2 इंदौर
  • 3 आगरा
  • 4 सूरत
  • 5 पुणे
  • 6 वाराणसी
  • 7 उदयपुर
  • 8 कोटा
  • 9 अजमेर
  • 10 रांची

जो काम हुए, उसका आम लोगों को अभी भी पूरा फायदा नहीं
पैन सिटी में कमांड कंट्रोल एंड कम्युनिकेशन सेंटर के माध्यम से इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया गया है। इसके तहत 40 चौक-चौराहों पर स्मार्ट ट्रैफिक सिग्नल लगाए गए हैं। लेकिन ट्रैफिक पुलिस के कंट्रोल सेंटर से यह अभी तक नहीं जुड़ा है। न्यू मार्केट चौराहा, करमटोली, जेल चौक सहित अन्य चौराहा पर ट्रैफिक सिग्नल का संचालन अभी भी मैनुअल ही हो रहा है। जिस कारण ऑनलाइन चालान भी नहीं कट रहा है।

इन कार्यों से बढ़ी रैंकिंग

  • 21 किमी रोड नेटवर्क स्मार्ट सिटी में बनना है। पिछले माह तक करीब 11 किमी सड़क पर काम शुरू हो गया। इसके साथ सीवरेज-ड्रेनेज का नेटवर्क भी बिछाया जा रहा है। रोड पार करने के लिए कल्वर्ट भी बनाया जा रहा है।
  • 10 प्लॉट के ऑक्शन हो चुके हैं। इनमें 6 आवासीय प्लॉट, 3 मिक्स्ड यूज और 1 स्टूडेंट्स रिसोर्स सेंटर शामिल हैं। इनसे 400 करोड़ रुपए से अधिक स्मार्ट सिटी कॉर्पोरेशन को मिलेंगे।
  • 800 करोड़ रुपए से अधिक स्मार्ट सिटी के डेवलपमेंट पर खर्च हो चुके हैं। फंड यूटिलाइजेशन में भी नंबर बढ़ा है।
  • 104 स्टैंड पब्लिक बाइसकिल शेयरिंग सिस्टम के लिए पैन सिटी में बनाए गए हैं। पहले से 60 स्टैंड थे, 43 नए स्टैंड बनने से पूरे शहर में साइकिल नेटवर्क बन गया है।
  • 18 में 12 प्रोजेक्ट का वर्क ऑर्डर जारी किया गया है। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, लैंड डेवलपमेंट और रिवर फ्रंट डेवलपमेंट, इको पार्क का काम जब वहां लोग रहने लगेंगे तब शुरू होगा।
खबरें और भी हैं...