सहायक पुलिसकर्मियों ने रांची में फिर डाला डेरा:SSP के आदेश के बाद भी शहर में एंट्री से नहीं रोक पाई पुलिस, मोरहाबादी इलाके में 1000 अतिरिक्त पुलिस बल तैनात

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
12 जिलों के सहायक पुलिसकर्मी स्थायीकरण और वेतनमान की मांग कर रहे हैं। इन्होंने अपने आंदोलन का नाम वर्दी-ए-इंसाफ दिया है। - Dainik Bhaskar
12 जिलों के सहायक पुलिसकर्मी स्थायीकरण और वेतनमान की मांग कर रहे हैं। इन्होंने अपने आंदोलन का नाम वर्दी-ए-इंसाफ दिया है।

संविदा पर नियुक्त सहायक पुलिसकर्मी एक बार फिर से मोरहाबादी पहुंचने लगे हैं। पिछले साल इनके उग्र प्रदर्शन को देखते हुए SSP ने इन्हें रांची में एंट्री ही नहीं देने की तैयारी की थी। सभी सीमाई थानों को निर्देश दिया गया था कि इन्हें रांची आने से रोकें, लेकिन अपने निर्धारित तिथि 27 सितंबर को यह मोरहाबादी मैदान पहुंच गए हैं।

इन्होंने अपनी मांगे पूरी नहीं होने के विरोध में आंदोलन की घोषणा की है। साथ ही ये CM हाउस का भी घेराव भी करेंगे। इसे ध्यान में रखते हुए SSP के आदेश के बाद पूरे मोरहाबादी इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया है। यहां 1000 से अतिरिक्त पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है। यहां RAP और JAP के महिला बटालियन की भी तैनाती की गई है।

पुलिस की हर योजना पर फेर दिए पानी

राज्य के 12 जिला में संविदा पर बहाल हुए 2500 सहायक पुलिसकर्मी को काफी प्रयास के बाद भी रांची पुलिस मोरहाबादी पहुंचने से नहीं रोक पाई। विभिन्न जिलों से राजधानी में पहुंचने वाले पथ पर बैरिकेडिंग की गई थी। रात से ही काफी संख्या में पुलिस बल के जवानों की तैनाती की गई थी, लेकिन इसके बाद भी सहायक पुलिस कर्मियों को रोकने में रांची पुलिस पूरी तरह से विफल साबित हुई।

क्यों आंदोलन कर रहे हैं सहायक पुलिसकर्मी

पलामू, गढ़वा, चतरा, लातेहार, खूंटी सिमडेगा, गिरिडीह, पश्चिमी सिंहभूम, गुमला, लोहरदगा सहित 12 जिलों के 2269 सहायक पुलिसकर्मियों की दलील है कि 2017 में जिलावार लिखित परीक्षा और फिजिकल -मेडिकल पास करने के बाद उनकी बहाली हुई थी। उस समय यह कहा गया था कि तीन साल की सेवा के बाद जिला पुलिस में बहाली होगी। सरकार बदलते ही इनका संविदा रद्द कर दिया गया। प्रदर्शन के बाद 1 साल के लिए बढ़ाया गया था। अब इनका आरोप है कि सरकार इनके साथ वादाखिलाफी की है।

मोरहाबादी में चारों ओर से की गई बैरिकेडिंग
मोरहाबादी में चारों तरप पुलिस ने बैरिकेडिंग कर दी है। बैरिकेडिंग किए गए सभी स्थानों पर पुलिस बल के जवानों को तैनात किया गया है। वाहन सवार आने-जाने वाले लोगों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो इस बात का भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

भारत बंद और विभिन्न और जुलूस की सूचना पर अलर्ट थी पुलिस
भारत बंद और कुर्मी विकास मोर्चा का पद यात्रा समेत विभिन्न प्रकार के जुलूस निकाले जाने की सूचना के बाद रांची पुलिस पहले से ही सुरक्षा की पूरी तैयारी कर ली थी। बंद समर्थकों और पदयात्रा में शामिल होने वाले लोगों से आम लोगों को किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो इसका विशेष ध्यान रखा गया था। पदयात्रा में शामिल होकर रांची पहुंचने वाले लोगों को करम टोली चौक पर ही रोक दिया गया था।

(इनपुट : कुंदन कुमार )

खबरें और भी हैं...