पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गर्भवती महिला की जांच अनिवार्य सेवा में शामिल:सरकारी अस्पतालों में हर महीने की 9 तारीख को गर्भवती की होगी जांच, NRHM डायरेक्टर ने सभी सिविल सर्जन को दिया निर्देश

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ज्य में मातृ मृत्यु की अधिकता का प्रमुख कारण गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जां की कमी  है। इस कमी को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री सुरक्षति मातृत्व योजना की आरंभ की है। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
ज्य में मातृ मृत्यु की अधिकता का प्रमुख कारण गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जां की कमी  है। इस कमी को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री सुरक्षति मातृत्व योजना की आरंभ की है। (फाइल फोटो)

झारखंड के सभी सरकारी अस्पतालों में अब महीने की 9 तारीख को गर्भवती महिला की जांच होगी। इस संबंध में NRHM डायरेक्टर रवि शंकर शुक्ला ने सभी सिविल सर्जन को निर्देश दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत मातृत्व स्वास्थ्य संबंधी सेवा का अनिवार्य सेवा में शामिल किया गया है।

रवि शंकर शुक्ला ने कहा है कि किसी भी सूरत में इस जांच को प्रभावित नहीं होने देना है। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए उनकी जांच की जाएगी।

अब दिव्यांगों के कार्ड से भी कोविन पर होगा रजिस्ट्रेशन

अब दिव्यांगों के लिए बनाई जाने वाली कार्ड यूनिक डिस्एबिलिटी आइडेंटिफिकेशन कार्ड (UDIC) के माध्यम से भी कोविन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन हो सकता है। इसके माध्यम से भी वे टीका ले सकते हैं। केंद्र सरकार के निर्देश के बाद हेल्थ डिपार्टमेंट की तरफ से राज्य के सभी सिविल सर्जन को इस बाबत निर्देश दे दिए गए हैं। कोई दिव्यांग व्यक्ति इस कार्ड के माध्यम से अपना रजिस्ट्रेशन कराना चाहता है तो इससे करा सकता है।

खबरें और भी हैं...