जुडको ने अहमदाबाद की कंपनी को सौंपी जिम्मेदारी:साल 2024 तक बनकर तैयार होगा कांटाटोली फ्लाईओवर, साल 2020 में बनकर तैयार होना था कांटाटोली फ्लाईओवर

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो

वर्ष 2016 से निर्माणाधीन कांटाटोली फ्लाईओवर का काम एक बार फिर से शुरू होने जा रहा है। साल 2024 तक अहमदाबाद की कंपनी दिनेश अग्रवाल एंड संस को फ्लाईओवर का निर्माण पूरा करेगी। जुडको ने अल्पकालीन निविदा के बाद यह टेंडर दिनेश अग्रवाल को दिया है। योगदा सत्संग आश्रम बहू बाजार रांची से कांटाटोली होते हुए कोकर तक इस फ्लाईओवर का निर्माण होना है। इसकी लंबाई 2.24 किलोमीटर है। फ्लाईओवर के निर्माण पर 187.67 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

पूर्व सीएम रघुवर दास के कार्यकाल में इस फ्लाईओवर का काम कराने का निर्णय लिया गया था। इसको लेकर निविदा भी निकाली गई थी। झारखंड के मोदी कंस्ट्रक्शन को काम दिया गया था, जिसने 19 पिलर भी बनाए, पर काम पूरा नहीं हो पाया। 2020 तक फ्लाईओवर का निर्माण पूरा हो जाना चाहिए था।

पहले लंबाई 1.25 थी, अब 2.24 किलोमीटर हो गई : गौरतलब हो कि पहले फ्लाईओवर के लिए 1.25 किलोमीटर की लंबाई तय हुई थी। दोबारा इसकी लंबाई बढ़ा दी गई। अब इसकी लंबाई 2.24 किलोमीटर है। अक्टूबर 2021 में कांटाटोली फ्लाईओवर के लिए हेमंत सोरेन सरकार में पहली बार टेंडर जारी हुआ था। पहली बार टेंडर में एक ही कंपनी क्वालिफाई होने के कारण एक बार फिर इसे जारी किया गया है।

फ्लाईओवर निर्माण की योजना 2016 में बनी थी। 2017 में इसके निर्माण के लिए एजेंसी का चयन किया गया। पर भू-अर्जन नहीं होने के कारण काम चालू नहीं हो पाया। मई 2018 में भू-अर्जन का काम पूरा हुआ। जून 2018 से फ्लाईओवर निर्माण का काम शुरू हुआ। जून 2020 तक कांटाटोली फ्लाईओवर बनकर तैयार हो जाना चाहिए था।

खबरें और भी हैं...