सदर अस्पताल में अव्यवस्था:कोविड रिपोर्ट 2 दिन पहले ही निगेटिव आई, फिर भी डिस्चार्ज नहीं; बाहर से लौट रहे हैं गंभीर मरीज

रांची6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वार्ड में दर्जनों मरीज ठीक होकर आराम कर रहे हैं

हर दिन सदर अस्पताल में भर्ती होने के लिए 25 से 30 गंभीर मरीज पहुंचते हैं। इनमें कई ऐसे होते हैं, जिन्हें तत्काल ऑक्सीजन की जरूरत होती है। अस्पताल में बेड खाली होने की स्थिति उन्हें लौटा दिया जाता है। गुरुवार को जब दैनिक भास्कर ने कोविड वार्ड में मरीजों की स्थिति की पड़ताल की तो देखा कि दो दर्जन से ज्यादा ऐसे मरीज हैं, जो स्वस्थ हो चुके हैं और अपने वार्ड में आराम कर रहे हैं।

कोई अखबार पढ़ रहा था, तो कोई बेड पर बैठकर अपने परिजन से बात कर रहा है। दीपाटोली के रहने वाले कैलाश सोनी की रिपोर्ट दो दिन पहले ही निगेटिव आ चुकी है। बावजूद उन्होंने अस्पताल नहीं छोड़ा है। उनकी पत्नी रीता देवी ने बताया कि 10 दिन पहले पति को भर्ती किया गया था, तब सांस लेने में परेशानी थी। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद कोई परेशानी नहीं है।

ऑक्सीजन की जरूरत ही नहीं... निगेटिव आने के बाद ही छोड़ेंगे बेड

कोविड वार्ड में भर्ती कुछ मरीज खुद बता रहे हैं कि अब उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत नहीं है। लेकिन, रिपोर्ट निगेटिव नहीं आई है, इसलिए घर नहीं जा रहे हैं। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही बेड खाली करेंगे। इधर, हेसाग के कृष्णकांत कमरे में बगैर ऑक्सीजन के ही बैठा था। उसके भाई सागर ने बताया कि ऑक्सीजन सेचुरेशन 94-95 के करीब है। अचानक सांस लेने में दिक्कत हो जाती है। जबकि, मरीज घंटों बगैर ऑक्सीजन के ही कमरे में बैठा रहा।

खबरें और भी हैं...