मैनेजर बन लोगों के खाते से पैसे उड़ाने वाला अरेस्ट:2018 से KYC के नाम पर लोगों को दे रहा था झांसा, CID ने पकड़ा

रांची5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तनुप कुमार दास हैदराबाद की जेल में बंद था। जमानत पर छूटने के बाद वह फिर से इस धंधे में जुट गया था। - Dainik Bhaskar
तनुप कुमार दास हैदराबाद की जेल में बंद था। जमानत पर छूटने के बाद वह फिर से इस धंधे में जुट गया था।

झारखंड अपराध अनुसंधान विभाग (CID) ने सोमवार को एक बड़े साइबर फ्रॉड को गिरफ्तार किया है। तनुप कुमार उर्फ तनुप दत्त नाम का यह अपराधी पिछले दो साल से बैंक मैनेजर बता कर लोगों के खाते से पैसा उड़ा रहा था। इतना ही नहीं साइबर फ्रॉड के मामले में यह अन्य राज्यों में भी जेल की हवा खा चुका है। अपराधी मुख्य रूप से दुमका का रहने वाला है।

आरोपी के पास एक मोबाइल, एक एटीएम और दो सिम कार्ड बरामद किया गया है। पूछताछ के में आरोपी ने अपने कई साथियों का नाम भी बताया है। उसकी निशानदेही पर CID कार्रवाई कर रही है। अन्य अपराधियों को पकड़ने का प्रयास जारी है।

2 साल से तलाश रही थी पुलिस
CID SP ने बताया कि 2018 में शिकायतकर्ता संजय कुमार पांडे के मोबाइल पर साइबर अपराधी ने फोन किया था। फोन कर KYC अपडेट करने की बात कर झांसे में लिया और उनके खाते से पैसा उड़ा लिया था। उन्होंने बताया कि पीड़ित बैंक मैनेजर समझ कर आरोपी के बहकावे में आ गया और उसने अपना सारा डिटेल आरोपी को बता दिया था। आरोपी ने पुलिस के खाते से तीन से चार बार में पैसा निकाला था।