• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Latest Weather Update Of Jharkhand; Possibility Of Heavy Rain And Thunderstorms In 8 Districts Of The State For The Next Two Days, Its Effect May Remain In Other Districts Along With Ranchi.

झारखंड में मानसून की सक्रियता:8 जिलों में अगले दो दिनों तक भारी बारिश और वज्रपात की संभावना, रांची के साथ अन्य जिलों में रह सकता है इसका असर

रांची9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रांची में सुबह से आंशिक बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग की तरफ से आज यहां हल्के दर्जे की बारिश की संभावना जताई गई है। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
रांची में सुबह से आंशिक बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग की तरफ से आज यहां हल्के दर्जे की बारिश की संभावना जताई गई है। (फाइल फोटो)

अगले दो दिनों तक झारखंड के 8 जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है। ये जिले देवघर, धनबाद, दुमका, गिरिडीह, गोड्डा, पाकुड़ और साहेबगंज है। मौसम विज्ञान केंद्र, रांची की तरफ से इस दौरान यहां वज्रपात की भी चेतावनी दी गई है।

मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया है कि मानसून की टर्फ लाइन UP के हरदोई, बिहार के पटना और झारखंड के जमशेदपुर होते हुए बंगाल की खाड़ी में जा रही है। इसके अलावा अगले 24 घंटे में लो प्रेसर एरिया बनने की भी संभावना है। इसका असर झारखंड की बारिश में देखने को मिलेगा। उन्होंने बताया कि 20 अगस्त तक राज्य के लगभग सभी इलाकों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है।

20 अगस्त के बाद मौसम साफ हो जाएगा। उन्होंने बताया कि हालांकि इसक दौरान राज्य के तापमान कोई बड़ा बदलाव देखने को नहीं मिलेगा। अधिकतम तापमान औसतन 30 डिग्री सेल्सियस तक बना रहेगा।

पिछले 24 घंटे में कैसा रहा राज्य का मौसम

मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में मानसून की स्थिति सामान्य रही। सबसे ज्यादा बारिश पाकुड़ के आम्रापारा में 69 मिमी रिकार्ड की गई। अधिकतम तापमान देवघर में 36.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान मेदिनीनगर में 23.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

गुमला में अभी तक 35% कम हुई बारिश

अभिषेक आनंद ने बताया कि राज्य के 5 जिलों में औसत से 35 प्रतिशत तक कम बारिश हुई है। सबसे कम बारिश गुमला में हुई है। मौसम विभाग के अनुसार, यहां इस मानसून में 35 प्रतिशत कम बारिश हुई है। एक जून से 16 अगस्त तक औसत बारिश 742 MM रिकार्ड की जानी चाहिए थी, जबकि सिर्फ 480 MM बारिश रिकार्ड की गई। वहीं राज्य में एक जून से 16 अगस्त तक 676 MM बारिश रिकार्ड की जानी चाहिए थी। अब तक 695 मिमी रिकार्ड की गई है।

खबरें और भी हैं...