स्वच्छता अभियान का उदाहरण:रांची के सपारोम गांव से सीखें, जिस तालाब में लाेग शाैच काे जाते थे, आज वहां योग करते हैं

पिस्का नगड़ी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगड़ी प्रखंड एक बार फिर चर्चा में है पिछली बार अपने मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नगड़ी के देवरी गांव का जिक्र एलोवेरा विलेज के रूप में किया था। इस बार रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफाई को लेकर नगड़ी के सपारोम नयासराय गांव का जिक्र किया है। पीएम मोदी ने इस गांव के स्वच्छता अभियान का उदाहरण देते हुए गांव के लोगों की सराहना की।

उन्हाेंने गांव के तालाब का जिक्र करते हुए कहा कि इस तालाब के आसपास आज से कुछ वर्षों पहले तक गंदगी का अंबार था। लोग इस तालाब का प्रयोग शौच के लिए करते थे, लेकिन आज सपारोम और नयासराय के घर घर में शौचालय है। स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधि के प्रयास से आज यह तालाब स्वच्छता का प्रतीक बन गया है। मोदी ने अपने मन की बात में कहा कि इस तालाब के मनोरम दृश्य को रिंग रोड से भी देखा जा सकता है। आज इस तालाब में लोग नहाते हैं। इसके आसपास बच्चे सुबह योग प्राणायाम और व्यायाम करते हैं। शाम में स्थानीय लोग घूमने आते हैं।

इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोदी ने मन की बात में झारखंड के धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा का जिक्र करते हुए कहा कि वीर योद्धा बिरसा मुंडा ने अपने आंदोलन से ब्रिटिश शासन की जड़ें हिला दी थीं। वे प्रकृति प्रेमी थे।

पहले तालाब पर जाने में शर्म आती थी, अब टहलने-योग को जाती हैं लड़कियां: राजधानी रांची से सटे सपारोम नया सराय का वह खूबसूरत तालाब। जहां हर सुबह कभी शौच करने वालों की भीड़ होती थी। मगर अब नहीं। सपारोम गांव की जलसहिया सरोज खलखो बताती है कि पहले तालाब पर जाने में शर्म आती थी अब वहां योग करने व टहलने जाती हैं।