पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट का हाल:लाइट हाउस काे अभी तक इन्वायरमेंटल क्लीयरेंस नहीं, निगम ने आवेदकों से जमा कर लिए 72 लाख

रांची13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लाइट हाउस में पिलर लगाते कर्मचारी - Dainik Bhaskar
लाइट हाउस में पिलर लगाते कर्मचारी
  • आवास बनने तक पैसा निगम के पास रहेगा

धुर्वा के आनी टाेला स्थित मित्र मंडल मैदान में लाइट हाउस बनाने के लिए जमीन की घेराबंदी और प्लांट बनाने का काम चल रहा है। यहां जर्मनी की 3डी टेक्नोलॉजी से लाइट हाउस बनाना है, लेकिन अभी तक लाइट हाउस काे इन्वायरमेंटल क्लीयरेंस नहीं मिला है। क्लीयरेंस मिलने के बाद ही 8 मंजिला लाइट हाउस का निर्माण शुरू हाेगा। लेकिन, रांची नगर निगम ने लाइट हाउस में फ्लैट आवंटन के नाम पर आम लाेगाें से 72 लाख रुपए जमा करा लिया है।

दरअसल, निगम ने एक वर्ष में लाइट हाउस का निर्माण पूरा हाेने का दावा करते हुए लाेगाें से आवेदन मांगा था। इसके लिए पांच हजार रुपए सिक्योरिटी मनी रखी गई थी। मंगलवार शाम तक कुल 1450 लाेगाें ने निगम में आवेदन के साथ बैंक में जमा की गई सिक्योरिटी मनी का चालान भी जमा किया। इससे निगम के खाता में 72 लाख रुपए से अधिक जमा हाे गए। जब तक आवास बनकर तैयार नहीं हाेता है, तब तक निगम के खाता में यह पैसा जमा रहेगा। इससे निगम ब्याज कमाएगा।

आवेदन देने की अंतिम तिथि आज, 500 से अधिक लाेगाें काे नहीं मिलेगा फ्लैट
लाइट हाउस में फ्लैट लेने के लिए आवेदन करने का अंतिम माैका 15 सितंबर तक ही है। निगम में जमा हुए आवेदनों की अगले माह स्क्रूटनी हाेगी। हालांकि, अभी तक के आंकड़ाें की मानें ताे 1500 से अधिक आवेदन निगम के पास अाएंगे। लेकिन, लाइट हाउस में 1008 फ्लैट का ही निर्माण हाेना है। ऐसे में फ्लैट आवंटन के लिए निगम लॉटरी करेगा। इसमें 500 से अधिक लाेगाें काे फ्लैट नहीं मिलेगा।

अगले वर्ष पूरा हाे सकता है प्रोजेक्ट

पर्यावरण स्वीकृति मिल जाती है ताे इस वर्ष के अंत तक लाइट हाउस का निर्माण शुरू हाेगा। एेसे में अगले वर्ष के अंत तक 1008 फ्लैट बनने की संभावना है। वहां अन्य आधारभूत संरचना विकसित करने में भी छह माह का समय लगेगा। एेसे में वर्ष 2023 में लाेग शिफ्ट हाेंगे।

बनहाैरा में आवेदकों को नहीं दिया फ्लैट

प्रधानमंत्री आवास याेजना के तहत बनहौरा में बने 180 फ्लैट के आवंटन में भी नगर निगम ने गड़बड़ी की है। यहां फ्लैट के लिए आवेदन और सिक्योरिटी मनी जमा करने वालाें काे निगम ने लॉटरी में शामिल नहीं किया। 55 फ्लैट रिजर्व करके रखा है। अब स्थानीय लाेगाें का नाम जाेड़ने की प्रक्रिया शुरू की गई है, ताकि उन्हें फ्लैट दिया जा सके।

पुराना जेल परिसर : 19 फ्लैट, 93 दावेदार
पुराना जेल परिसर में बने फ्लैट के आवंटन में भी गड़बड़ी की बात सामने आ रही है। यहां मात्र 19 फ्लैट बचे हैं, जबकि 93 आवेदन जमा हुए। इसका आवंटन करमटोली तालाब के किनारे वर्षों से झोपड़ी में रहने वाले 19 परिवारों के बीच करना था, अब निगम ने दाेबारा सर्वे शुरू करा दिया। जिन लाेगाें काे पहले फ्लैट लिया, वे रिश्तेदारों काे ही फ्लैट दिलाने में लगे हैं।

खबरें और भी हैं...