पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Machines Deteriorate In RIMS, 27 Thousand Patients Had To Give 2.98 Crore More To Private Investigation Center For Investigation In Two Years

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रिम्स में पड़ताल:रिम्स में मशीनें खराब, 27 हजार मरीजों को दो साल में जांच के लिए निजी जांच सेंटर को देने पड़े 2.98 करोड़ ज्यादा

रांची3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाईकोर्ट की फटकार के बाद भास्कर ने की रिम्स में पड़ताल
  • यहां ज्यादातर वैसे मरीज आते हैं, जो निजी अस्पतालों में इलाज नहीं करवा पाते

झारखंड हाईकोर्ट ने शुक्रवार को रिम्स की लचर व्यवस्था पर तल्ख टिप्पणी की है। चीफ जस्टिस ने शुक्रवार को स्वत: संज्ञान से दर्ज जनहित याचिका पर वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई करते हुए कहा था कि प्राइवेट क्लिनिक चलता रहे, इसलिए चिकित्सा उपकरण समय से नहीं खरीदे जा रहे हैं। इसके बाद दैनिक भास्कर की टीम ने शनिवार को रिम्स में जांच व्यवस्था की रियलिटी चेक की, जिसमें पता चला कि रिम्स अब निजी जांच सेंटराें के सहारे चल रहा है। भले ही मरीजाें काे यहां फ्री इलाज की सुविधा है। लेकिन सीटी स्कैन, ईकाे, एमआरआई और अल्ट्रासाउंड जैसी जांच के लिए मरीजों को निजी जांच सेंटराें में जाना पड़ता है।

क्याेंकि, रिम्स में पिछले 2 वर्षाें से सीटी स्कैन, 5 महीने से 2 ईकाे मशीन, 2 महीने से 3 अल्ट्रासाउंड और एक एमआरआई मशीन खराब पड़ी हुई है। इस कारण मरीजाें काे निजी जांच सेंटराें में 2-3 गुणा अधिक खर्च करने पड़ते हैं। ऐसे में जब से मशीनें खराब हुई हैं, तब से अभी तक 27150 मरीजाें को 7.48 करोड़ रुपए जांच के लिए प्राइवेट हेल्थ मैप काे देने पड़े। अगर इतने ही मरीज रिम्स में जांच कराए होते ताे उन्हें 4.50 कराेड़ ही खर्च करने पड़ते। ऐसे में रिम्स में इलाज कराने वाले मरीजाें काे सिर्फ जांच में 2.98 करोड़ ज्यादा खर्च करने पड़े।

मरीज की सुविधा के लिए हेल्थ मैप को किया स्थापित, अब पूरा रिम्स निर्भर

रिम्स में भर्ती मरीजों को कम समय में जांच की सुविधा उपलब्ध हो, रिम्स का लोड कम हो सके, इसलिए पांच साल पहले मणिपाल हेल्थ मैप को रिम्स परिसर में सेंटर खोलने की अनुमति दी गई थी। यहां शुरुआत में रोजाना 30-35 मरीज ही जांच के लिए पहुंचते थे। बीते दो सालों में रिम्स में खराब होने से यहां रोजाना 100 से अधिक मरीज जांच करा रहे हैं। अब स्थिति यह हो गई है कि रिम्स में भर्ती सारे मरीज जांच के लिए हेल्थ मैप सहित दूसरे डायग्नोस्टिक सेंटर पर निर्भर हो गए हैं। हेल्थ मैप में जांच कराने के लिए सुबह से दोपहर तक लोगों को नंबर लेकर इंतजार करना पड़ता है।

सीटी स्कैन मशीन

सीटी स्कैन मशीन 2019 से ही खराब है। जनवरी 2020 में मशीन खरीदने का टेंडर हुआ था, लेकिन स्लाइड काे लेकर पूर्व निदेशक डाॅ. डीके सिंह और रेडियाेलाॅजी विभागाध्यक्ष डाॅ. सुरेश टाेप्पाे के बीच बड़ा विवाद हाे गया था। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के हस्तक्षेप के बाद टेंडर राेक दिया गया। विभागाध्यक्ष की मांग पर मई में 256 स्लाइड के सीटी स्कैन खरीदने के लिए सहमति बनी। लेकिन, 25 जून काे निदेशक काे हटाए जाने के बाद खरीदारी का काम ठंडे बस्ते में चला गया। इधर, नए निदेशक डाॅ. कामेश्वर प्रसाद के आने के बाद दिसंबर में सरकारी ई-पाेर्टल जेम से सीटी स्कैन खरीदारी के लिए सहमति बनी।

15 वर्ष पुरानी हो गई है ईकाे मशीन

ईकाे मशीन 15 वर्ष पुरानी हाे गई है। पिछले 5 माह से यहां मरीजों की जांच बंद है। नवंबर-दिसंबर में ईकाे मशीन की खरीदारी के लिए टेंडर हुआ था। लेकिन, तकनीकी बिड में शिकायत मिलने के कारण उसे रद्द कर दिया गया। अब दुबारा टेंडर करने की प्रक्रिया चल रही है।

एमआरआई मशीन

एमआरआई मशीन भी काफी पुरानी हाे चुकी है। इसके कई पार्ट‌्स बेकार हो गए हैं जो नहीं मिल रहे हैं। आपसी खिंचतान में अभी तक नई मशीन खरीदारी का टेंडर नहीं हुआ।

अल्ट्रासाउंड मशीन

रिम्स में अल्ट्रासाउंड की 3 मशीनें हैं। तीनाें के तीनाें आउटडेटेट हाे चुकी है। लेकिन हेल्थ मैप को फायदा पहुंचाने के लिए नई मशीनें नहीं खरीदी गई।

प्रबंधन ने कहा- वेंडर नहीं आ रहे तो कैसे खरीदें मशीन

मशीनाें की खरीदारी के लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। सीटी स्कैन मशीन के लिए जनवरी में टेंडर भी निकाला गया, लेकिन किसी वेंडर ने टेंडर नहीं डाला। नवंबर में ही ईकाे मशीन की खरीदारी के लिए जेम पर टेंडर हुआ था। अब फिर से प्रक्रिया चल रही है। हेल्थ मैप में रिम्स के ही जांच दर के आस पास हेल्थ मैप में ली जाती है।

-डाॅ. संजय कुमार, चिकित्सा उपाधीक्षक, रिम्स

  • हेल्थ मैप में रिम्स में भर्ती बीपीएल मरीजों की जांच मुफ्त में होती है। इसका पैसा सरकार वहन करती है। लेकिन एपीएल मरीजों को जांच के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ते हैं।
  • अगर रिम्स में ये मशीनें ठीक होती तो एक चाैथाई कीमत में ही एपीएल मरीजों की भी जांच होती।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें