पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धान खरीदी का सच:कई मिलर नहीं ले रहे धान जिससे संकट में किसान, 2050 रु. क्विंटल की जगह 1100 में बेचने को मजबूर

रांची8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पैक्स के गोदाम से मिलर द्वारा धान नहीं ले जाने के कारण हजारीबाग के पदमा में खरीदारी रुकी और गोदाम पर ताले लग गए। - Dainik Bhaskar
पैक्स के गोदाम से मिलर द्वारा धान नहीं ले जाने के कारण हजारीबाग के पदमा में खरीदारी रुकी और गोदाम पर ताले लग गए।
  • किसानों को मिनिमम सपोर्ट... बिचौलियों व्यापारियों को प्राइस
  • भास्कर के पास किसानों की लाचारी और व्यापारियों के डबल क्रॉस के 50 से अधिक ऑडियो-विडियो

न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को लेकर देश भर में किसानों का आंदोलन चल रहा है। कृषि सुधार को लेकर बने नए कानूनों पर बहस छिड़ी हुई है। लेकिन झारखंड में किसान इन आंदोलन-बहस से दूर धान के बोरे लेकर इसे बेचने के लिए पैक्स-लैम्पस के चक्कर लगा रहे हैं। झारखंड में धान ही ऐसी फसल है जिसकी खरीद एमएसपी पर सबसे ज्यादा हाेती है।

पर, लाख प्रयास के बावजूद किसान एमएसपी की आधी कीमत पर बिचाैलियाें और व्यवसायियाें काे धान बेचने को मजबूर हैं। दैनिक भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ। कई जिलों की पड़ताल में पता चला कि एमएसपी के 2050 रुपए प्रति क्विंटल के बदले किसान 1100 से 1300 रुपए प्रति क्विंटल की दर से बिचौलियों और व्यापारियों को धान बेच रहे हैं।

क्या है खेल

बनावटी संकट पैदा कर किसानों पर बनाते हैं दबाव

1. व्यापारी-बिचौलिए जानते हैं कि किसान भंडारण नहीं कर सकते, इसलिए धान सस्ता बेचने का प्लॉट तैयार करते हैं। 2. मिलर बहाने बनाकर धान का उठाव रोक देते हैं। सरकार के गोदाम भर जाते हैं और अफसर धान खरीदारी को मना कर देते हैं। 3. इस स्थिति में किसान के पास दो विकल्प रहते हैं। चाहे वह रोज गोदाम जाए या खाली होने का इंतजार करे। इसमें उनका खर्च बढ़ जाता है। 4. व्यापारी-बिचौलिए इसका फायदा उठाते हैं। वे किसानों से उनका धान घर से ही उठाने का प्रलोभन देते हैं। किसान राजी हो जाते हैं क्योंकि उसके पास कोई विकल्प नहीं होता।

यही कारण है कि...

  • 9567 किसान ही अबतक बेच पाए हैं धान जबकि 1.69 लाख का हुआ रजिस्ट्रेशन
  • 11 प्रतिशत ही धान सरकारी स्तर पर खरीद हो पाई है इन 34 दिनों में

राज्यभर की रिएलिटी...
रामगढ़, लातेहार, कोडरमा खूंटी में कई जगह खरीद रुकी

हमने जब राज्य भर में धान खरीद की पड़ताल की तो पता चला रामगढ़, लातेहार, कोडरमा खूंटी में कई जगहों पर धान की खरीद रुक गई है...

  • गढ़वा- किसानों ने बताया कि जब पैसे की जरूरत थी तो क्रय केंद्र खुले ही नहीं थे।
  • बोकारो- पैक्स में कागजात के झंझट से किसान धान बेचने क्रय केंद्र नहीं जा रहे।
  • लोहरदगा- धान बेचने के बाद उन्हें तत्काल 50% राशि व पूरे पैसे नहीं मिलने की आशंका।
  • रामगढ़, लातेहार, खूंटी, कोडरमा में कई जगहों पर गोदाम फुल, खरीदारी रुक गई है।

पैक्स, मिल मालिक और अफसरों का कॉकस तोड़ेंगे

किसान आधी कीमत पर धान क्यों बेच रहे हैं?
-जिन्होंने निबंधन नहीं कराया है, वही खुले बाजार में धान बेच रहे हैं।
गोदाम भर गए हैं, किसानों से कई जिलों में धान नहीं खरीदा जा रहा।
-गाेदाम जल्दी-जल्दी भर रहे हैं, इसलिए थाेड़ा विलंब जरूर हाे रहा है। पर, किसानों काे लाैटाया नहीं जा रहा।
पैक्स, मिलर व अफसरों की मिलीभगत तो नहीं?
- हमारे संज्ञान में यह है। काफी हद तक व्यवस्था सुधरी है। इस कॉकस को हमारी सरकार जल्द ही तोड़ेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपको कई सुअवसर प्रदान करने वाली हैं। इनका भरपूर सम्मान करें। कहीं पूंजी निवेश करने के लिए सोच रहे हैं तो तुरंत कर दीजिए। भाइयों अथवा निकट संबंधी के साथ कुछ लाभकारी योजना...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser