महलों वाले मंत्री:4000 वर्गफीट के आवास से निकलकर 16 हजार वर्गफीट वाले आलीशान बंगले में शिफ्ट होंगे मंत्री

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कैबिनेट ने दी मंजूरी, स्मार्ट सिटी में 10 एकड़ जमीन में बनेंगे मंत्रियाें के 11 बंगले, दो साल में तैयार होंगे

रांची के दीनदयाल नगर, डाेरंडा ौर धुर्वा में रह रहे राज्य के मंत्रियाें काे अब आलीशान बंगला मिलेगा। धुर्वा में 656 एकड़ में बन रही स्मार्ट सिटी में 10 एकड़ जमीन पर 11 मंत्रियाें के बंगले बनेंगे। कैबिनेट ने गुरुवार काे इसकी मंजूरी दे दी। ये बंगले दाे साल में बनकर तैयार हाे जाएंगे। इसके बाद चार से छह हजार वर्गफीट के बंगले में रह रहे मंत्री स्मार्ट सिटी में 16 हजार वर्गफीट में बनाsx शीलान बंगले में शिफ्ट हाे जाएंगे।

अभी मंत्रियाें के बंगले का बिल्डअप एरिया 1000 से 2000 वर्गफीट है। नए बंगले का बिल्डअप एरिया करीब सात हजार वर्गफीट का हाेगा। 11 बंगले बनाने पर 69.90 कराेड़ रुपए खर्च हाेंगे। यह वही जमीन है, जहां पहले स्किल डेवलपमेंट पार्क बनना था। स्मार्ट सिटी में जल्दी ही 20 एकड़ जमीन पर वरिष्ठ अफसराें के लिए भी 40 बंगला बनाने की तैयारी है। इसका प्रस्ताव तैयार है। इसे भी जल्दी ही कैबिनेट में भेजा जाएगा।

वर्तमान बंगले में गार्ड रूम भी नहीं

  • बंगले में तीन बेडरूम, एक गेस्ट रूम, किचन, वेटिंग हाॅल आर गार्ड रूम है।
  • 2000 से 3000 वर्गफीट एरिया ओपन स्पेस है, जहां पार्किंग, गार्डन आदि बना है।
  • मत्री आवास में ही एक ओर ऑफिस ब्लॉक बना है। वेटिंग एरिया भी उसी में बना है या फिर शेड डालकर इसे अलग से बनाया गया है।
  • {बच्चों के लिए अलग से कोई सुविधा नहीं है। प्ले जोन और इंटरटेनमेंट जोन के लिए भी कोई जगह चिन्हित नहीं है।
  • के रहने के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं है। गार्ड रूम में ही जैसे-तैसे बॉडीगार्ड रहते हैं।

हर नए बंगले में अलग-अलग क्लब हाउस होगा

  • 16000 वर्गफीट में बंगला होगा। इसमें आवासीय ब्लॉक, एनेक्स ब्लॉक, क्लब हाउस और गार्ड बैरक अलग-अलग होगा।
  • 7 हजार वर्गफीट का बिल्डअप एरिया होगा। 2450 वर्गफीट ऑफिस, सर्वेंट क्वार्टर और गैराज का बिल्डअप एरिया होगा।{ग्राउंड फ्लोर पर मास्टर बेडरूम सुईट, ड्राइंग रूम, गेस्ट रूम, लॉबी, डाइनिंग एरिया, ग्रोसरी के साथ किचन, फैमिली लाउंज, मंत्री का आवासीय चैंबर, मंत्री का गोपनीय कार्यालय होगा।
  • आवासीय ब्लॉक के पहले तल्ले पर फैमिली लाउंज, 2 मास्टर बेडरूम, चिल्ड्रन बेडरूम, पैंट्री, मल्टीपर्पस स्टोर, पूजा रूम, ओपन टैरेस और बालकनी सहित अन्य सुविधाएं होगी।
  • सभी आवासीय परिसर में क्लब हाउस बनेगा। जहां कैफे लाउंज, रिसेप्शन ऑफिस, जिम, बैडमिंटन कोर्ट, किचन, बाथरूम आदि बनेगा। ड्राइवर और गार्ड के लिए भी सर्वेंट ब्लॉक में दो डोरमेट्री बनाया जाएगा।

15 दिसंबर से शुरू हाेगी धान खरीद, एक किसान से अधिकतम 200 क्विंटल धान लेगी सरकार

राज्य सरकार इस बार कुल आठ लाख मीट्रिक टन धान खरीदेगी। एक किसान से अधिकतम 200 क्विंटल धान की ही खरीद की जाएगी। ज्यादा से ज्यादा किसानाें काे जाेड़ने के लिए यह व्यवस्था की गई है। धान की खरीद स्टेट फूड काॅरपाेरेशन के माध्यम से हाेगी। बुधवार काे मुख्यमंत्री हेमंत साेरेन की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस पर मुहर लगा दी गई। कहा गया कि इस व्यवस्था से बिचाैलियाें की भूमिका पर भी अंकुश लगेगा। खरीदारी 15 दिसंबर से शुरू हाेगी। इसके लिए 15 नवंबर तक रजिस्ट्रेशन के लिए के लिए आवेदन देना हाेगा। अगर काेई किसान 15 नवंबर तक अआवेदन नहीं दे पाता ताे इसके बाद भी उन्हें माैका दिया जाएगा।

ग्रेड वन धान का समर्थन मूल्य 1960 रु., 110 रु. मिलेगा बाेनस

राज्य सरकार ने धान का समर्थन मूल्य भी जारी कर दिया है। साधारण किस्म के धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 रुपए प्रति क्विंटल मिलेगा। इस पर राज्य सरकार 110 रुपए बाेनस देगी। यानी एक क्विंटल का 2050 रुपए मिलेगा। इसी तरह ग्रेड वन धान के लिए समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 1960 रुपए और 110 रुपए बाेनस मिलेगा। बाेनस देने के लिए राज्य सरकार केंद्र से अनुमति लेगी। किसानाें काे खरीद के समय ही आधी राशि का भुगतान कर दिया जाएगा, जबकि शेष राशि बाद में दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...