पुलिस ने अपहरणकर्ता को 2 घंटे में दबोचा:दो साल की बच्ची का अपहरण कर बिहार भागने की फिराक में था नवादा का अधेड़

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रिकवर करने के बाद अरगोड़ा थाना की पुलिस। - Dainik Bhaskar
रिकवर करने के बाद अरगोड़ा थाना की पुलिस।

अरगोड़ा थाना की पुलिस ने हरमू कॉलोनी स्थित ढेला टोली में शुक्रवार की सुबह दो साल की एक बच्ची का अपहरण कर भागने वाले अभियुक्त शंभु शरण शर्मा (42) को दो घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। शंभू शरण मूल रूप से नवादा बिहार का रहने वाला है। वह वर्तमान में कडरू हज हाउस के पीछे किराए के मकान में रहता था। उसके कडरू स्थित घर से पुलिस ने बच्ची को भी सकुशल बरामद कर लिया है। वहीं दो साल की बच्ची ऋद्धि है। पिता रणधीर कुमार मंडल हरमू ढेलाटोली में रहते हैं। शुक्रवार की सुबह 11.30 बजे अभियुक्त शंभु शरण ऋद्धि को घर के पास से अपहरण कर भागा था। इसकी जानकारी वहां उसके साथ खेल रही दो अन्य बच्चियों ने ऋद्धि के माता-पिता को दी।

इसके बाद रणधीर ने 12 बजे अरगोड़ा थाना को जानकारी दी। पुलिस तुरंत एक्टिव हुई। थाना प्रभारी विनोद कुमार ने चार टीमें बनाई। दो घंटे के अंदर पुलिस पूछताछ व सीसीटीवी के आधार पर अभियुक्त के घर कडरू पहुंची। घर में बच्ची के साथ अभियुक्त शंभू शरण बैठा हुआ था। पुलिस ने उसे दबोच लिया। वह बच्ची को लेकर शनिवार को बिहार के नवादा जाने वाला था।

अभियुक्त शंभु शरण शर्मा
अभियुक्त शंभु शरण शर्मा

विरोध किया तो दो अन्य बच्चियों को कैंची से मारने के लिए दौड़ा

शुक्रवार को दिन के 11 बजे ऋद्धि दो अन्य बच्चियों के साथ घर के बाहर खेल रही थी। उसी दौरान अभियुक्त शंभु शरण वहां पहुंचा। वह ऋद्धि का अपहरण कर भागने लगा। यह देख वहां खड़ी दो अन्य बच्चियों ने विरोध किया। इस पर अभियुक्त अपनी पॉकेट से कैंची निकाल कर उन्हें मारने दौड़ाया। उन्हें बोला, भाग जाओ नहीं तो जान से मार देंगे। बच्चियां डर गईं और वहां से भाग गईं। बच्चियों ने इसकी जानकारी तुरंत रिद्धी के माता पिता को दी। फिर रणधीर कुमार मंडल ने तुरंत अरगोड़ा थाना को इस बात की जानकारी दी।

शक नहीं हो, इसलिए पड़ोसियों से कहा था- दीवाली में बिहार जाना है

अभियुक्त शंभु शरण शातिर है। वह ऋद्धि को अपहरण के बाद अपने गांव नवादा लेकर जाने वाला था। उसने पुलिस को बताया कि दो दिन पहले उसने बच्ची की रेकी की थी। उसने अपने पड़ोसियों को बताया था कि वह दिवाली में घर जाने वाला है, ताकि अपहरण के बाद वहां से भागने के बाद किसी को शक न हो। पुलिस को यह भी जानकारी मिली कि पहले भी उसने पटेल चौक के पास एक बच्ची के अपहरण का प्रयास किया था। लेकिन महिलाओं ने उसे देख लिया और शोर मचाया, तो वह बच्ची को छोड़ भाग निकला था।

खबरें और भी हैं...