पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Neither Could Prevent The Infection, Nor Were Able To Give Treatment, The Last Rites Were Also Left On The Family Members, Opening The Bags And Putting Water In The Mouth Of The Dead Body.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अंतिम संस्कार में भी नियमों की अनदेखी:परिजनों के पास पीपीई किट नहीं, प्रशासन से भी नहीं मिल रही मदद; बैग खोलकर शव के मुंह में गंगाजल डाल रहे परिजन

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को हरमू मोक्षधाम की शवदाह मशीन फिर खराब हाे गई। सभी शवों को यहां से घाघरा श्मशान भेजा गया। घघरा में लकड़ी कम पड़ गई। निगम ने आनन-फानन में लकड़ियां भेजीं। देर रात तक सामूहिक चिता सजाकर कुल 64 कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार किया गया। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को हरमू मोक्षधाम की शवदाह मशीन फिर खराब हाे गई। सभी शवों को यहां से घाघरा श्मशान भेजा गया। घघरा में लकड़ी कम पड़ गई। निगम ने आनन-फानन में लकड़ियां भेजीं। देर रात तक सामूहिक चिता सजाकर कुल 64 कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

रांची में कोरोना से निपटने के लिए जिला प्रशासन व नगर निगम की सारी व्यवस्था फेल हाे रही है। हॉस्पिटल में बेड और ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में असफल होने के बाद अब कोरोना से मरने वालों का दाह संस्कार कराने में भी निगम-प्रशासन फेल हाे गया है।

मृतक के परिजनों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है। इस कारण अंतिम संस्कार भी बिना कोविड गाइडलाइन के हाे रहे हैं। परिजन संक्रमित शव के प्लास्टिक बैग की चेन खोलकर मृतक के मुंह में गंगाजल और पानी दे रहे हैं। एंबुलेंस से शव उतारने के समय सभी लोग PPE किट भी नहीं पहन रहे हैं।

लगातार तीसरे दिन 100 से ज्यादा लोगों का अंतिम संस्कार

रविवार को रिकार्ड 116 शवों का दाह संस्कार हुआ था। सोमवार को 104 व मंगलवार को 115 शवों का अंतिम संस्कार हुआ। 68 संक्रमित थे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

और पढ़ें