जमीन विवाद मामला:गोड्‌डा सांसद की पत्नी पर दर्ज केस रद्द करने का आदेश, कोर्ट ने कहा- यह कानून का दुरुपयोग

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एलोकेसी धाम मामले में देवघर डीसी के आदेश पर दर्ज की गई थी एफआईआर
  • डीसी कोर्ट ने ईडी को जांच का आदेश दिया था

हाईकोर्ट ने देवघर के जमीन विवाद मामले में गोड्‌डा सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिका गौतम पर दर्ज केस रद्द करने का आदेश दिया है। जस्टिस एसके द्विवेदी की कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए देवघर डीसी द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी निरस्त कर दी। साथ ही यह भी माना कि कानून का दुरुपयोग कर सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिका गौतम के खिलाफ केस दर्ज कराया गया।

उल्लेखनीय है कि देवघर डीसी के कोर्ट ने जमीन विवाद के एक मामले की सुनवाई करते हुए अनामिका गौतम के नाम पर रजिस्टर्ड एलोकेसी धाम की रजिस्ट्री 19 जनवरी-2021 को रद्द कर दी थी। साथ ही अनामिका गौतम और सांसद निशिकांत पर केस दर्ज करने का आदेश दिया था।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा भी मामले की जांच कराने का आदेश दिया था। डीसी कोर्ट के आदेश पर जिला अवर निबंधक ने सांसद के खिलाफ देवघर नगर थाने में केस दर्ज कराया था। इस आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी।

इधर, गोड्‌डा सांसद और डीसी विवाद में नया मोड़, देवघर डीसी काे हटाने के आदेश पर चुनाव आयोग से पुनर्विचार का आग्रह कर सकती है सरकार

गोड्‌डा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ पांच केस दर्ज कराने पर चुनाव आयोग ने देवघर डीसी मंजुनाथ भजंत्री को हटाने का आदेश दिया है। राज्य सरकार आयोग से इस आदेश पर पुनर्विचार करने का आग्रह कर सकती है। कार्मिक विभाग ने इस पर फैसले के लिए मुख्य सचिव को फाइल भेजी है। वहीं सरकार ने भी महाधिवक्ता से अनाैपचारिक तौर पर राय ले ली है। हालांकि, इस मुद्दे पर अभी सरकार के शीर्ष स्तर पर अंतिम फैसला नहीं हो सका है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि देवघर डीसी भजंत्री के मामले में सरकार एक-दो दिन में निर्णय ले लेगी।

ये हैं तीन विकल्प

  • 1. सरकार चुनाव आयोग का आदेश मानने से इनकार कर दे।
  • 2. चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपील करे।
  • 3. फैसले को गलत बताते हुए आयोग से पुनर्विचार के लिए आग्रह करे।
खबरें और भी हैं...