• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Out Of 272 Institutes Of Ranchi, Only 14 Have Done KYC So Far, Children Of Institutions That Do Not Update KYC Till 31 October Will Not Be Able To Apply

छात्रों के हक पर प्रबंधन की लापरवाही:रांची के 272 संस्थानों में मात्र 14 ने अभी तक कराई है KYC, 31 अक्टूबर तक KYC अपडेट नहीं कराने वाले संस्थानों के बच्चे नहीं कर सकेंगे आवेदन

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के वर्ष 2021-22 के लिए तीन छात्रवृत्ति योजनाओं प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक और मेरिट-कम-मिन्स आधारित छात्रवृत्ति का लाभ 6 अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को दिया जाना है। (प्रतिकात्म) - Dainik Bhaskar
अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के वर्ष 2021-22 के लिए तीन छात्रवृत्ति योजनाओं प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक और मेरिट-कम-मिन्स आधारित छात्रवृत्ति का लाभ 6 अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को दिया जाना है। (प्रतिकात्म)

रांची के हजारो अल्पसंख्यक छात्रों की छात्रवृति पर KYC का रोड़ा है। संस्थान की तरफ से बिना KYC अपडेट कराए स्टूडेंट्स इसके लिए आवेदन करने योग्य ही नहीं हो पाएंगे । सैकड़ों शिक्षण संस्थानों ने अभी तक राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल पर KYC नहीं किया है।

अभी तक महज 14 संस्थानों ने ही केवाईसी अपडेट किया है। जबकि, संस्थानों को 31 अक्तूबर तक केवाईसी अपडेट और पहली बार आवेदन करने वाले संस्थानों को रजिस्ट्रेशन कराने की अंतिम तिथि निर्धारित है।जबकि, शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए रांची में 272 संस्थानों में पढ़ने वाले करीब 5 हजार विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी गई थी।

नवंबर में है आवेदन की आखिरी तारिख
अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के वर्ष 2021-22 के लिए तीन छात्रवृत्ति योजनाओं प्री-मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक और मेरिट-कम-मिन्स आधारित छात्रवृत्ति का लाभ 6 अल्पसंख्यक समुदाय के छात्रों को दिया जाना है। प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए 15 नवंबर और पोस्ट-मैट्रिक और मेरिट-कम-मिन्स आधारित छात्रवृत्ति के लिए 30 नवंबर आवेदन की अंतिम तिथि निर्धारित है।

संस्थान की होगी जिम्मेदारी
रांची जिला कल्याण पदाधिकारी ने सभी संस्थानों से कहा है कि अपने निर्धारित समय पर KYC अपडेट करें या रजिस्ट्रेशन कराना सुनिश्चित करें। अपने संस्थानों के छात्रों की सूची पोर्टल से छात्रवृत्ति योजना अंतर्गत ऑनलाइन सत्यापित करते हुए डाउनलोड करें। छात्रों को छात्रवृति नहीं मिलने की जिम्मेदारी संस्थान की होगी।

खबरें और भी हैं...