पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Pathological Investigation Unit Started In RIMS From Today, Only 150 Tests Were Done In 1 Day In Old, More Than 3000 In New

गुड न्यूज:आज से रिम्स में पैथोलॉजिकल जांच यूनिट शुरू, पुराने में 1 दिन में मात्र 150 जांच होती थी, नए में 3000 से ज्यादा

रांची8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रिम्स के ट्रॉमा सेंटर के फर्स्ट फ्लोर पर बनकर तैयार पैथोलॉजिकल जांच यूनिट। - Dainik Bhaskar
रिम्स के ट्रॉमा सेंटर के फर्स्ट फ्लोर पर बनकर तैयार पैथोलॉजिकल जांच यूनिट।
  • हाईकोर्ट ने रिम्स की जांच व्यवस्था में सुधार के लिए 15 सितंबर तक का दिया था समय, 2 से ढाई घंटे में मिलेगी रिपोर्ट
  • 150 से अधिक तरह की जांच
  • कम पैसे में जांच की सुविधा
  • 24 घंटे मिलेगी सेवा

हाईकोर्ट रिम्स में पैथोलॉजिकल जांच व्यवस्था में सुधार के लिए लंबे समय से टिप्पणी कर रहा था। व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए कोर्ट ने 15 सितंबर तक का समय दिया था। 15 सितंबर यानी बुधवार से ट्रॉमा सेंटर के फर्स्ट फ्लोर पर पैथोलॉजिकल जांच यूनिट शुरू होने वाली है। 10 दिन पहले ही मशीनों का इंस्टाॅलेशन पूरा कर इसका ट्रायल किया जा रहा था। बुधवार से मरीजों काे लैब का फायदा मिलना शुरू हो जाएगा। पहले शाम 5 बजे सेंट्रल लैब व संबंधित विभाग बंद हो जाते थे, अब इसका संचालन 24 घंटे किया जाएगा। रविवार को भी जांच हाेगी। पुराने सेंट्रल कलेक्शन सेंटर से ही सैंपल कलेक्शन कर जांच के लिए ट्रॉमा सेंटर भेजे जाएंगे, इसके बाद 2 से ढाई घंटे में रिपोर्ट उपलब्ध कराई जाएगी। ब्लड यूरिन समेत अन्य जांच किफायती दर पर हो सकेंगे।

ये मशीनें हो रहीं इंस्टॉल... जानकारी के अनुसार, न्यू ट्रॉमा सेंटर के सेंट्रल लैब में ब्लड क्लॉटिंग सिस्टम की जांच में उपयोगी कोग्लूमीटर पीटी टेस्ट मशीन, हार्मोन जांच के लिए एलिजा रिडर, 400 जांच क्षमता वाली बायोकेमेस्ट्री एनालाइजर, यूरीन संबंधित जांच के लिए यूरीन एनालाइजर फुली ऑटोमेटिक के अलावा माइक्रोबायोलॉजी की भी कई उपकरण इंस्टॉल की जा रही है। अभी रिम्स के पुराने सेंट्रल लैब में एक दिन में 100 से 150 लोगों के सैंपल की ही जांच की व्यवस्था थी, नई व्यवस्था के तहत रोजाना 3000 से ज्यादा रोगियों के जांच हो सकेंगे।

भर्ती मरीजों की जांच 24 घंटे

रिम्स निदेशक डॉ. कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि रिम्स में जांच 24 घंटे सातों दिन हो यह लक्ष्य है। इससे स्टूडेंट्स भी सीखें कैसे जांच की जाती है। रिम्स टीचिंग इंस्टीट्यूशन है। यदि यहां जांच नहीं होगी तो स्टूडेंट्स सीखेंगे कैसे। इससे मरीजों को भी काफी फायदा मिलेगा। भर्ती मरीजों के सैंपलों की जांच 24 घंटे हो सकेगी। हाईकोर्ट ने 15 सितंबर तक का समय दिया था, निर्धारित समय में ही जांच शुरू हो रही है।

रिम्स में 50 से ज्यादा जांच फ्री

रिम्स करीब 50 तरह से ज्यादा जांच मुफ्त में किए जाते हैं। कैंसर रोगियों के लिए महत्वपूर्ण टिश्यू जांच व किडनी रोगियों के लिए बायोप्सी रिम्स में 30 से 35 रुपए में संभव है। प्राइवेट में 2500 से 3000 तक चुकाने पड़ते हैं।

रिम्स व प्राइवेट जांच सेंटर की फीस

जांच रिम्स प्राइवेट टॉर्च प्रोफाइल 1500 3500 विटामिन डी 600 1230 विटामिन बी 12 500 960 सीबीसी टेस्ट 20 550 लीवर फंक्शन टेस्ट 45 300 आरएफटी 40 15 थायराइड प्रोफाइल 200 350 थायराइड प्रोफाइल 430 1000 लिपिड प्रोफाइल 200 450 यूरिया फ्री 200 एचबी1एसी 100 250 प्रोटीन टोटल फ्री 150 यूरिक एसिड फ्री 100 एचआईवी फ्री 200 सोडियम पोटेशियम फ्री 116 बायोप्सी टिश्यू टेस्ट फ्री 1000

खबरें और भी हैं...